×

लॉकडाउन की उड़ी धज्जियां, अंधविश्वास के चलते जान जोखिम में डाल रहे लोग

अंधविश्वास का यह मामला बाराबंकी जिले के कोठी थाना अंतर्गत पडरावा गांव का है। इस गांव के प्रधान प्रतिनिधि लक्ष्मी नारायण जयसवाल भगवान व पूर्वजों से सीधे दर्शन कराने का दावा करते हैं।

Rahul Joy
Updated on: 29 May 2020 6:13 AM GMT
लॉकडाउन की उड़ी धज्जियां, अंधविश्वास के चलते जान जोखिम में डाल रहे लोग
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बाराबंकी: बाराबंकी के एक गांव में यहां का एक व्यक्ति पुलिस की नाक के नीचे जमकर लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहा है। यह ढोंगी शख्स भगवान और पूर्वजों के साक्षात दर्शन करवाने का दावा कर रहा है। इसका दावा है कि वह ईश्वर और पूर्वजों के जीवन्त साक्षात दर्शन करवा सकता है। उसके इसी दावे से बहक कर गांव में लोगों की भारी भीड़ उमड़ आयी।

धारा 144 का उड़ा मजाक

गांव में उमड़ी भीड़ के अंदर कोरोना महामारी का भय भी नहीं दिखा और सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ी। ऐसे में यहां कोरोना बम फूटने का खतरा भी मंडरा रहा है। हलाकि जो शख्स भगवान के दर्शन करवाने का दावा कर रहा है, उसने खुली चुनौती देते हुए कहा कि जिसे विश्वास न हो वह स्वयं आये। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि जब जिले में धारा 144 लागू है तो फिर पुलिस को ऐसे आयोजनों की भनक क्यों नहीं लग रही।

सैटेलाइट से खुलासा: जंग की तैयारी में चीन, LAC के पास तैनात किए तोप-फाइटर जेट

अंधविश्वास का खेल

अंधविश्वास का यह मामला बाराबंकी जिले के कोठी थाना अंतर्गत पडरावा गांव का है। इस गांव के प्रधान प्रतिनिधि लक्ष्मी नारायण जयसवाल भगवान व पूर्वजों से सीधे दर्शन कराने का दावा करते हैं। उनके इसी दावे के बाद आसपास के कई गांव के सैकड़ो लोग एकत्रित हो गए। फिर लक्ष्मी नारायण का दरबार सजा और शुरू हुआ अंधविश्वास का खेल। सैकड़ों की संख्या में लोग दर्शन करने के लिए इस गांव में पहुंचे तो उनके चेहरे पर कोरोना जैसी महामारी का भय भी नही दिखाई दिया और लोग भीड़ लगाकर एक दूसरे से सटे खड़े दिखाई दिए। अपने सजे सजाए दरबार में लक्ष्मीनारायण जयसवाल ने कई लोगों के सर पर हाथ रख कर जय बाबा सदानंद का नाम लेकर आंखें बंद कर भगवान के दर्शन कराने का दावा किया।

[playlist type="video" ids="589969"]

गांव का ही रहने वाला एक 8 वर्षीय मासूम छोटू पुत्र सुनील ने बताया कि उसे भगवान विष्णु के दर्शन हुए हैं और भगवान जीवन्त रूप में थे। उसने भगवान से क्या मांगा इस सवाल पर उसने कहा कि कुछ नही बस सिर्फ दर्शन हुए हैं। भगवान विष्णु के जब उसने दर्शन किये तो वह नीले रंग में थे।

डोनाल्ड ट्रंप ने बोला झूठ, लपेटा PM मोदी का नाम, जानिए क्या है पूरा मामला

कई लोगों ने किये दर्शन

लक्ष्मी नारायण के गुरु रैसंडा आश्रम के महंत सदानंद भी भगवान के दर्शन कराने का दावा करते थे। लक्ष्मी नारायण जयसवाल का कहना है वह बाबा सदानंद को अपना गुरु मानता है और उन्हीं की प्रेरणा से ही यह सिद्धि प्राप्त हुई है। वह चुनौती देते हुए कहता है कि जिसे भी भगवान के साक्षात दर्शन करने हों वह उनके पास आये। लक्ष्मी नारायण के मुताबिक वह अब तक तमाम लोगों को दर्शन करवा चुका है और उसके परिवार में भी सभी को दर्शन हो चुके हैं। वह बताते हैं कि जैसा गरुण पुराण में बताया गया है ठीक वैसा ही दर्शन वह करवा सकती है।

[playlist type="video" ids="589971"]

अब यह विश्वास है या अंधविश्वास लेकिन लक्ष्मी नारायण का जादू लोगों के सिर चढ़ कर बोल रहा है। इसका अंदाजा भीड़ देखने से ही लग जाता है। ऐसे में अगर इस भीड़ में कोरोना बम फूटा तो हालात क्या होंगे इसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता।

रिपोर्टर - सरफ़राज़ वारसी, बाराबंकी

शेरों से बचने के लिए भैंस ने मारी ऐसी छलांग, Video वायरल, यहां देखें

Rahul Joy

Rahul Joy

Next Story