CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन, जामिया छात्रों और पुलिस में भिड़ंत, लहराईं चुड़ियां

नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) के खिलाफ राजधानी दिल्ली में विरोध-प्रदर्शन फिर तेज हो गया है। रविवार को संसद तक मार्च निकाल रहे प्रदर्शनकारियों की पुलिस से झड़प हो गई। इस दौरान कुछ प्रदर्शनकारी जख्मी भी हुए हैं।

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) के खिलाफ राजधानी दिल्ली में विरोध-प्रदर्शन फिर तेज हो गया है। रविवार को संसद तक मार्च निकाल रहे प्रदर्शनकारियों की पुलिस से झड़प हो गई। इस दौरान कुछ प्रदर्शनकारी जख्मी भी हुए हैं। संसद तक प्रदर्शन मार्च को रोके जाने से नाराज कुछ महिला प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली पुलिस की तरफ चूड़ियां भी लहराईं।

उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस को चूड़ियां पहन लेनी चाहिए, क्योंकि वह मार्च को आगे बढ़ने नहीं दे रही है। दिल्ली पुलिस और जामिया यूनिवर्सिटी प्रशासन की बार-बार अपीलों के बाद भी प्रदर्शनकारी संसद तक जाने के लिए अड़े हुए हैं। इसके मद्देनजर सुखदेव विहार मेट्रो स्टेशन के एंट्री और एग्जिट गेट को बंद कर दिया गया है।

जामिया से संसद तक मार्च के ऐलान के बाद से ही दिल्ली पुलिस ने जामिया और आस-पास के क्षेत्रों में सुरक्षा बढ़ा दिया था। जामिया के छात्रों और पूर्व छात्रों के संगठन जामिया को-ऑर्डिनेशन कमिटी (JCC) ने सीएए के विरोध में संसद तक मार्च का ऐलान किया था। प्रशासन ने इस मार्च को अनुमति नहीं दी है। सैकड़ों प्रदर्शनकारी संसद की तरफ बढ़ रहे थे, लेकिन ओखला में पुलिस ने बैरिकेड्स लगाकर प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोक लिया। पुलिस उन्हें जामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी के गेट नंबर 7 पर लौटने का अनुरोध किया।

यह भी पढ़ें…शाहीन बाग पर बड़ी खबर: प्रदर्शन को लेकर SC ने कही ये बात

प्रदर्शन के दौरान कुछ छात्र बैरिकेड्स पर चढ़ गए। वहां से छात्रों को उतारते समय कुछ छात्रों को चोट लग गईं। ज्यादा भीड़ होने की वजह से कुछ छात्र बेहोश भी हो गए। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश की तो उनके साथ धक्का-मुक्की हुई। कई प्रदर्शनकारी संसद की तरफ अपना मार्च जारी रखने के लिए बैरिकेड को पार कर गए। कुछ प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पानी के पाउच फेंके और गालियां दीं। इसके बाद प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए पुलिस ने हल्का लाठीचार्ज भी किया।

यह भी पढ़ें…राहुल गांधी का बड़ा हमला, कहा- BJP-RSS के डीएनए में आरक्षण का विरोध

प्रॉक्टर ने की अपील

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रॉक्टर वसीम अहमद खान ने छात्रों से वापस लौट जाने और पुलिस के साथ नहीं भिड़ने की अपील की। उन्होंने छात्रों से आग्रह किया कि संदेश भेजा गया है। मैं भीड़ में शामिल छात्रों से विश्वविद्यालय वापस लौटने का अनुरोध करता हूं। कानून का सम्मान करते हुए शांतिपूर्वक वापस लौट जाएं।

यह भी पढ़ें…CAA-NRC पर असदुद्दीन ओवैसी का बड़ा बयान, कहा- …कहेंगे मार गोली

बता दें कि अब तक जामिया में प्रदर्शनकारी पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। करीब 200 प्रदर्शनकारी अब भी डटे हुए हैं। पुलिस ने घटनास्थल पर भारी सुरक्षा इंतजाम किए हैं। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उनकी तरफ से कोई लाठीचार्ज नहीं हुई ह, लेकिन जो छात्र आगे की लाइन में थे, उन्हें लाठी खानी पड़ी।