आर्टिकल 370 हटते ही इस पर बीजेपी की नजर, पूरा करेगी ये मिशन

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने का किसी को कोई अनुमान ही नहीं था और एक झटके में मोदी सरकार ने पूरे देश को आश्चर्य कर दिया। मोदी की इस हुंकार की पुकार पूरी दुनिया में सुनाई दी। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटे हुए अब एक हफ्ते से ज्यादा बीत चुके है।

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने का किसी को कोई अनुमान ही नहीं था और एक झटके में मोदी सरकार ने पूरे देश को आश्चर्य कर दिया। मोदी की इस हुंकार की पुकार पूरी दुनिया में सुनाई दी। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटे हुए अब एक हफ्ते से ज्यादा बीत चुके है। देश में बहुतो के लिए यह खुशी की बात थी, तो कई लोगों ने इसका बहिष्कार किया और कुछ तो अभी भी कर ही रहे है। लेकिन इनमें अगर देखा जाए तो सरकार के इस निर्णय से लगभग पूरा देश खुशियां मनाने में लगा था। देश की इन प्रतिक्रियाओं को देखकर मोदी सरकार का भी सीना चौड़ा हो गया।

यह भी देखें… अनुच्छेद 370 : 15 अगस्त को कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं रहेगा

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद हिंसा और हंगामे से बचाव के लिए कई तरह के प्रतिबंध लगे रहे, जो ईद के एक दिन पहले से थोड़े खुलने शुरू भी हो गए थे। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से सरकार ने यही सदेंश दिया कि जो कुछ भी हुआ वो संविधान के दायरे में हुआ, जिससे कश्मीर के रहने वालों के हितों की और अच्छे से रक्षा होगी।

इसके साथ ही जम्मू के 5 जिलों में पाबंदिया हटा ली गईं और 5 जिलों में रात को पाबंदियां बरकरार रहीं। मीडिया रिपोर्ट्स बताती हैं कि ऐसे ही कश्मीर के लगभग 9 जिलों में लगी पाबंदियों में थोड़ी छूट दे दी गई। कश्मीर के कई इलाकों में अपने रिश्तेदारों से हेल्पलाइनों के जरिए सरकार ने संपर्क कराया।

यह भी देखें… कश्मीर से पाबंदिया हटाने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार, कहा- संवेदनशील मामला

डिलिमिटेशन की है तैयारी

पाक अधिकृत कश्मीर की दो दर्जनों सीटों को छोड़ दें तो बाकी राज्य में कुल 90 विधानसभा सीटें की जाएंगी। बीजेपी आलाकमान जानता है कि इसके बाद राज्य में जम्मू इलाके में सीटों की संख्या कश्मीर से ज्यादा हो जाएगीं। अब तक जम्मू में 37 सीटें , कश्मीर में 46 सीटें और लद्दाख में 4 विधानसभा सीटें आतीं थीं। जल्दी ही चुनाव आयोग इस दिशा में काम शुरू कर देगा।

सरकार को इंतजार है कि जब तक डिलिमिटेशन का काम पूरा होगा तब तक कश्मीर में शांति लौट आएगी। बीजेपी अब जम्मू-कश्मीर पर भगवा लहराने की तैयारी में है। जम्मू की सीटें बढ़ते ही बीजेपी को भरोसा है कि वहां पर अगला मुख्यमंत्री उनका ही होगा।

यह भी देखें… 15 अगस्त 2019: आजादी के दो दिन पहले कुछ ऐसा था माहौल

पीेएम मोदी का वादा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जानते हैं कि कश्मीर के लिए अभी लंबी लड़ाई लड़नी है। वहां के निवासियों की जिंदगी को बहाल करना है। दूसरा अपने वादे के अनुसार जल्द ही चुनाव करवाने हैं। फिलहाल जो भी हो पीएम मोदी ने अपना वादा निभाया। और शायद यही कारण है कि पूरा देश इसके समर्थन में खड़ा है। अब लोगों को इसके बाद पीएम मोदी से बाकी वादों को पूरा करने की उम्मीद है।

यह भी देखें… 370 हटाने से विपक्षी पार्टियों के हौसले हुए पस्त, कार्यकर्ताओं में छाई मायूसी