×

कश्मीर में आतंकी हमला: अनुच्छेद 370 का पहला लाभार्थी मारा गया, दी बड़ी चेतावनी

जम्मू कश्मीर का सबसे पहले निवास प्रमाण प्राप्त करने वाले ज्वेलर सतपाल निश्चिल 25 साल से कश्मीर में बतौर किरायेदार रह रहे थे लेकिन आतंकियों ने कानून के खिलाफ दहशत बढ़ाने के लिए निश्चिल की हत्या कर दी।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 2 Jan 2021 3:21 AM GMT

कश्मीर में आतंकी हमला: अनुच्छेद 370 का पहला लाभार्थी मारा गया, दी बड़ी चेतावनी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

श्रीनगर. जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने एक ज्वेलर की हत्या कर दी। जिस ज्वेलर की हत्या हुई है, वह अनुच्छेद 370 हटाए जाने बाद भूमि कानून में आये बदलाव में जम्मू कश्मीर का सबसे पहले निवास प्रमाण प्राप्त करने वाले गैर कश्मीरी निवासी है। ज्वेलर सतपाल निश्चिल 25 साल से कश्मीर में बतौर किरायेदार रह रहे लेकिन जब उन्होंने कानूनी प्रक्रिया के तहत कश्मीर की नागरिकता मिली तो आतंकियों ने कानून के खिलाफ दहशत बढ़ाने के लिए निश्चिल की हत्या कर दी।

कश्मीर के ज्वेलर सतपाल निश्चिल की आतंकियों ने की हत्या

दरअसल, केंद्र की मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले कानून को निरस्त कर आर्टिकल 370 को संशोधित किया तो जो सालों से कश्मीर में बिना नागरिकता और संपत्ति खरीदे किराए पर निवास कर रहे थे, ऐसे लोगों की उम्मीद जगी। इन्ही में से एक पंजाबी ज्वेलर सतपाल निश्चिल 370 हटाए जाने के बाद सबसे पहले डोमिसाइल सर्टिफिकेट प्राप्त करने वाले शख्स बने।

ये भी पढ़ेंः 2021 में सोने की कीमत होगी 65000 रुपये! चांदी के दाम जानकर उड़ जाएंगे होश

सतपाल कश्मीर का डोमिसाइल सर्टिफिकेट पाने वाले पहले शख्स

वे 25 साल से कश्मीर में रह रहे थे और मेहनत के बल पर तरक्की कर रहे थे लेकिन सम्पत्ति खरीदने का अधिकार न होने के चलते किराए पर रह रहे थे। निवास प्रमाण पत्र मिलने के बाद उन्होंने श्रीनगर के पॉश इलाके इंदिरानगर में अपना शानदार घर बनाया।

Terrorist

आतंकियों का संकेत देने की कोशिश

लेकिन आतंकियों ने मारे जाने के बाद कहा जा रहा है कि यही डोमिसाइल सर्टिफिकेट उनकी हत्या का कारण बना। सूत्रों के मुताबिक़, आतंकियों ने इस हत्या के जरिए यह संकेत देने की कोशिश की कि कश्मीर से बाहर के लोग अगर यहां निवास प्रमाण पत्र लेने की सोचेंगें तो उनका यही हश्र होगा। हालाँकि मामले में पुलिस गहराई से छानबीन कर रही है। वहीं डरे सहमे परिवार और करीबी मित्रों ने इस मामले में कुछ भी बोलने से मना कर दिया है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना पाबंदियों से ऊबे लोग, मेट्रो में जताया विरोध, खुलेआम करने लगे Kiss

आर्टिकल 370 प्रॉपर्टी खरीदने का मिला हक

गौरतलब है कि आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में रह रहे बाहरी लोगों को प्रॉपर्टी खरीदने और निवास प्रमाण पत्र लेने का कानूनी हक मिल गया था। इसका कश्मीर में जमकर विरोध भी किया गया था।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story