×

रांची में CM हेमंत के काफिले पर हमला, सुरक्षाकर्मियों ने ऐसे बचाया, मचा हड़कंप

राजधानी रांची में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के काफिला को रोकने की कोशिश की गई है। उपद्रवी तत्वों ने काफिला में शामिल गाड़ियों पर हमले भी किए हैं। किशोरगंज चौक के पास हुई इस घटना के बाद अफरा-तफरी मच गई। मौके पर मौजूद ट्रैफिक पुलिस और सीएम की सुरक्षा में तैनात जवानों ने मुख्यमंत्री को दूसरे रास्ते से निकाला।

Ashiki

AshikiBy Ashiki

Published on 4 Jan 2021 4:34 PM GMT

रांची में CM हेमंत के काफिले पर हमला, सुरक्षाकर्मियों ने ऐसे बचाया, मचा हड़कंप
X
रांची में CM हेमंत के काफिले पर हमला
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

रांची: राजधानी रांची में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के काफिला को रोकने की कोशिश की गई है। उपद्रवी तत्वों ने काफिला में शामिल गाड़ियों पर हमले भी किए हैं। किशोरगंज चौक के पास हुई इस घटना के बाद अफरा-तफरी मच गई। मौके पर मौजूद ट्रैफिक पुलिस और सीएम की सुरक्षा में तैनात जवानों ने मुख्यमंत्री को दूसरे रास्ते से निकाला। मौके पर मौजूद रांची उपायुक्त छवि रंजन ने बताया है कि, डीआईजी और एसएसपी पूरे मामले को देख रहे हैं। उन्हे सीएम के कारकेड रोके जाने की सूचना मात्र मिली थी। फिलहाल, सीसीटीवी को खंगाला जा रहा है।

ये भी पढ़ें: लोकसभा अध्यक्ष की होनहार बेटी: सिविल सर्विसेज में सेलेक्शन, गदगद हुए ओम बिरला

युवती का सिर कटा शव बरामद

आपको बता दें कि, तीन जनवरी को रांची के ओरमांझी थाना क्षेत्र में एक 20-22 साल की युवती का सिर कटा शव बरामद हुआ है। पतरा जंगल से युवती का नग्न शव बरामद होने के बाद भाजपा ने राज्य सरकार पर हमले तेज़ कर दिए हैं। रांची के ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने बताया कि, युवती के साथ दुष्कर्म की वारदात से इनकार नहीं किया जा सकता है। हालांकि, रिम्स से पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही इसकी पुष्टि की जा सकती है। इस बीच युवती के सिर की तलाश जारी है लेकिन अबतक पुलिस को नाकामी हाथ लगी है।

झामुमो ने बताया साज़िश

सत्ताधारी झामुमो और कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के काफिला रोके जाने को साज़िश करार दिया है। प्रेस बयान जारी कर कहा गया है कि, विरोध प्रदर्शन की आड़ में कारकेड पर हमला किया गया है। इसके पीछे राजनीतिक षडयंत्र है। झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य ने कहा कि, किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाज़त नहीं है। ये मात्र विरोध-प्रदर्शन नहीं है बल्कि एक साज़िश है। सत्ताधारी कांग्रेस ने भी हमले के पीछे राजनीतिक षडयंत्र क़रार दिया है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा है कि, अगर सुरक्षा कर्मी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को दूसरे रास्ते से सुरक्षित नहीं ले जाते तो बड़ा हादसा हो सकता था।

ये भी पढ़ें: CM ममता ने मोदी सरकार को लिखा पत्र, सुभाष चंद्र बोस पर की ये बड़ी मांग

बीजेपी ने जलाया सीएम का पुतला

इस बीच प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का पुतला दहन किया है। जब सीएम का काफिल रोका जा रहा था तो बीजेपी के लोग राजधानी के अलबर्ट एक्का चौक पर हेमंत सोरेन का पुतला दहन कर रहे थे। विपक्षी बीजेपी का मानना है कि, हेमंत सोरेन की सरकार महिलाओं को सुरक्षा देने में नाकाम रही है। लिहाज़ा, ऐसी सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई हक़ नहीं है।

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/01/WhatsApp-Video-2021-01-04-at-21.00.21.mp4"][/video]

रांची से शाहनवाज़ की रिपोर्ट

Ashiki

Ashiki

Next Story