अयोध्या समेत देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था, रामलला के दर्शन पर पाबंदी नहीं

सुप्रीम कोर्ट की ओर जाने वाली भगवान दास रोड को बैरिकेड लगाकर बंद कर दिया गया और अत्याधुनिक हथियारों से लैस दिल्ली पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया। सुप्रीम कोर्ट के गेटों के बाहर दिल्ली पुलिस के 500 पुलिसकर्मी और तीन कंपनी अर्धसैनिक बलों को तैनात किया जाएगा।

अयोध्या समेत देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था, रामलला के दर्शन पर पाबंदी नहीं

अयोध्या समेत देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था, रामलला के दर्शन पर पाबंदी नहीं

नई दिल्ली: देश के सबसे बड़े विवादित अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट आज अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाने जा रहा है। जिसके मद्देनजर अयोध्या के साथ-साथ राजधानी दिल्ली और पूरे देश में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं। कल शुक्रवार की रात अचानक ये सूचना आई कि, कोर्ट कल अपना फैसला सुनाएगा। उसके बाद आधी रात के बाद ही सुप्रीम कोर्ट की ओर जाने वाली भगवान दास रोड को बैरिकेड लगाकर बंद कर दिया गया और अत्याधुनिक हथियारों से लैस दिल्ली पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया। सुप्रीम कोर्ट के गेटों के बाहर दिल्ली पुलिस के 500 पुलिसकर्मी और तीन कंपनी अर्धसैनिक बलों को तैनात किया जाएगा।

बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था

कोर्ट के आसपास 3 लेयर सिक्योरिटी की व्यवस्था की गई है। जैसे ही कल शुक्रवार को ये खबर आई कि, सुप्रीम कोर्ट शनिवार सुबह 10:30 बजे तक अपना फैसला सुनाएगा, इसके बाद ही दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों ने सुरक्षा को लेकर एक आपात बैठक की और दिल्ली के कई हिस्सों में सुरक्षा को बढ़ा दिया गया और साथ ही पेट्रोलिंग में इजाफा किया गया।

यह भी पढ़ें: जानिए अयोध्या कैसे बना था फैजाबाद और कैसे फैजाबाद हुई वापस अयोध्या

सीसीटीवी के जरिए रखी जा रही निगरानी

संवेदनशील इलाकों पर सीसीटीवी के जरिए निगरानी रखी जा रही है और इसके अलावा पुलिसकर्मी भी सादी वर्दी में तैनात किये गये हैं। इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने सोशल मीडिया के लोगों से अपील की है कि वो शांति और सौहार्द बनाए रखें, साथ ही किसी भी तरह के धार्मिक और भड़काऊ चीजों को सोशल मीडिया पर फैलाने से मना किया है। फिलहास अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले को लेकर दिल्ली में सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही बॉर्डर इलाके पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

जजों की बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था

इसके साथ ही अयोध्या मामले पर सुनवाई कर रही सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ में शामिल सभी जजों की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस धनंजय यशवंत चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस अब्दुल नजीर के घरों पर भी सुरक्षाबल तैनात किये गए हैं।

यह भी पढ़ें: अयोध्या पर फैसला आज ही क्यों, जानिए इसके बारे में

35 सीटीटीवी और 10 ड्रोन कैमरों के जरिए निगरानी

इसको लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस के एडीजी आशुतोष पांडे ने बताया कि, अयोध्या में पैरामिलिट्री फोर्स की 60 कंपनियां, RPF और पीएसी और 1200 पुलिस कॉन्स्टेबल, 250 सब-इंस्पेक्टर्स, 20 डिप्टी सुप्रीटेंडेंट और 2 एसपी को तैनात किया गया है। साथ ही डबल लेयर बैरिकेडिंग, पब्लिक अड्रेस सिस्टम लगाया गया है और 35 सीटीटीवी और 10 ड्रोन कैमरों के जरिए नजर रखी जा रही है।

रामलला के दर्शन पर पाबंदी नहीं

इसके अलावा उन्होंने बताया कि, रामलला के दर्शनों पर लोगों पर कोई पाबंदी नहीं लगाई गई है। सभी मार्केट खुले हैं और हालात पूरी तरह से सामान्य है। वहीं डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि, अयोध्या में हवाई निरीक्षण भी किया जा रहा है। साथ ही सुरक्षा इंतजामों पर नजर रखने के लिए एक एडीजी रैंक के अफसर की भी तैनाती की गई है

यह भी पढ़ें: अयोध्या: राम मंदिर पर SC का बड़ा फैसला, विवादित स्थल रामलला