‘राम मंदिर तोड़कर विवादित ढांचा बनाया गया, वो मस्जिद नहीं थी’ : प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अयोध्या में बन रहा राम मंदिर देश में एकता का मंदिर है और विभिन्न धर्मों के लोग इसका समर्थन कर रहे हैं। राम जन्मभूमि आंदोलन’ देश के स्वाभिमान के लिए आंदोलन था।

Published by Aditya Mishra Published: January 25, 2021 | 10:36 am
prakash javadekar Bjp

'राम मंदिर तोड़कर विवादित ढांचा बनाया गया, वो मस्जिद नहीं थी' : प्रकाश जावड़ेकर(फोटो: सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया है। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि बाबर ने राम मंदिर पर आक्रमण किया और एक विवादित ढांचा बनाया।

वो मस्जिद नहीं थी क्योंकि जहां इबादत नहीं होती वो मस्जिद नहीं होती। वो एक विवादित ढांचा था। ये बातें जावड़ेकर ने दिल्ली में कही।

वे श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निधि समर्पण अभियान में दान देने वालों को सम्मानित करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे। उन्होंने यहां कहा कि 6 दिसंबर 1992 को हम कारसेवक के रूप में अयोध्या में उपस्थित थे।

ayodhya
‘राम मंदिर तोड़कर विवादित ढांचा बनाया गया, वो मस्जिद नहीं थी’ : प्रकाश जावड़ेकर(फोटो:सोशल मीडिया)

ट्रैक्टर रैली का रूट: कहां से शुरू, किन रास्तों से गुजरेंगे किसान, बाधित रहेंगे ये मांग

अयोध्या में बन रहा राम मंदिर देश में एकता का मंदिर है:जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अयोध्या में बन रहा राम मंदिर देश में एकता का मंदिर है और विभिन्न धर्मों के लोग इसका समर्थन कर रहे हैं। राम जन्मभूमि आंदोलन’ देश के स्वाभिमान के लिए आंदोलन था। राम देश को एकजुट करते हैं और देश की एकता के प्रतीक हैं।

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, ‘देश में लाखों मंदिर हैं, लेकिन जब विदेशी आक्रमणकारी आए, बाबर आए, तो उन्होंने राम मंदिर को ही क्यों तोड़ा? क्योंकि उन्हें समझ आ गया था कि इस देश के प्राण अगर कहीं है तो राम मंदिर में है इसलिए राम मंदिर पर आक्रमण करके एक विवादित ढांचा बनाया गया वो मस्जिद नहीं थी क्योंकि जहां इबादत नहीं होती वो मस्जिद नहीं होती वहां कभी धार्मिक कार्य नहीं हुए।

MP: प्यारे मियां केस में 3 और लड़कियों की हालत गंभीर, मां ने कानून पर उठाए सवाल

ram-temple-ayodhya
‘राम मंदिर तोड़कर विवादित ढांचा बनाया गया, वो मस्जिद नहीं थी’ : प्रकाश जावड़ेकर(फोटो:सोशल मीडिया)

ऐतिहासिक भूल को किया गया ठीक

उन्होंने कहा कि 6 दिसंबर 1992 को कारसेवक के रूप में हम भी अयोध्या में उपस्थित थे। हम एक रात पहले वहां सोए हुए थे। बाबरी मस्जिद के तीन गुंबद दिख रहे थे। अगले दिन दुनिया ने देखा कि किस तरह से ऐतिहासिक भूल को ठीक कर दिया गया।

आज अयोध्या में बनने जा रहा भव्य राम मंदिर देश में एकता का मंदिर है जावड़ेकर ने आगे कहा कि राम देश को एकजुट करते हैं आज विभिन्न धर्मों के लोग राम मंदिर का समर्थन कर रहे हैं।
राम मंदिर निर्माण में दान देने वालों को किया सम्मानित

बता दें कि प्रकाश जावड़ेकर जिस कार्यक्रम में शामिल हुए थे। उसे श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निधि समर्पण अभियान में दान देने वालों को सम्मानित करने के लिए आयोजित किया गया था। केन्द्रीय मंत्री ने सभी देशवासियों से अपनी श्रद्धानुसार अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए दान देने की बात कही।

अभी ठंड से नहीं मिलेगी राहत: इन राज्यों में जारी हुआ अलर्ट, पड़ेगी भयानक सर्दी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App