कुर्सी की लड़ाई: शिवसेना ने अपनाया नया हथियार, हल्ला बोल कर रही सरकार

राजनीति में सीट को लेकर महाराष्ट्र में खींचातानी अब अपनी चरम सीमा है। खींचातानी महाराष्ट्र में सीएम के पद को लेकर है। विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद से ही राजनीतिक प्रतिक्रिया बहुत तेज हो गई हैं लेकिन फैसला सिर्फ एक कदम दूर है।

नई दिल्ली : राजनीति में सीट को लेकर महाराष्ट्र में खींचातानी अब अपनी चरम सीमा है। खींचातानी महाराष्ट्र में सीएम के पद को लेकर है। विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद से ही राजनीतिक प्रतिक्रिया बहुत तेज हो गई हैं लेकिन फैसला सिर्फ एक कदम दूर है। इसी के चलते शिव सेना ने अपने मुखपत्र सामना के तहत बीजेपी पर हल्ला बोला है।

यह भी देखें… हत्या की साजिश: इमरान सरकार पूर्व पीएम को दे रही धीमा जहर

अपने सामना के संपादकीय

शिवसेना ने अपने सामना के संपादकीय में कहा है कि कई ‘निवर्तमान’ मंत्रियों को अपनी सरकारी गाड़ी और बंगला जाने की चिंता है। शिवसेना ने कहा है कि राज्य की जनता एक सुर में मांग कर रही है कि कुछ भी हो महाराष्ट्र में शिवसेना का ही मुख्यमंत्री होना चाहिए। जिसके पास आंकड़ा होगा, वो सरकार भी बनाए और मुख्यमंत्री भी बनाए, ये हमारा भी मत है।

फिलहाल विधायकों के टूटने का डर झेल रही शिवसेना ने बिना नाम लिये भाजपा पर हमला बोला है। शिवसेना ने सामना में लिखा है कि कुछ लोग नए विधायकों से संपर्क कर ‘थैली’ की भाषा बोल रहे हैं और ऐसी शिकायतें बढ़ रही है।

आगे शिवसेना ने कहा है कि पिछली सत्ता का उपयोग अगली सत्ता के लिए ‘थैलियां’ बांटने में हो रहा है। पर किसानों के हाथ कोई दमड़ी भी रखने को तैयार नहीं है। इसीलिए महाराष्ट्र के किसानों को शिवसेना की सत्ता चाहिए।

मुखपत्र सामना में लिखा गया है कि महाराष्ट्र की प्रतिष्ठा धूमिल करके यहां पर कोई राज नहीं कर सकता। इसके लिए शिवसेना वहां तलवार लेकर खड़ी है। बिना भाजपा के नाम लिए विधायकों को खरीदने के लिए पैसे बांटने का भी आरोप लगाया है। शिवसेना ने सामना में लिखा है, ‘’बीजेपी जिस ‘महायुति’ की बात कर रही है वो आकार में बड़ी हो फिर भी उसमें शामिल कई दलों के एक भी विधायक नहीं हैं।

यह भी देखें… मचेगी धूम: चमकी दिल्ली की जीटी करनाल रोड, चल रही जोरो-सोरों से तैयारियां

सरकार गठन के बारे में चिंता

ये बगैर विधायकों का ‘महामंडल’ परसों राज्यपाल से मिला और सरकार गठन के बारे में चिंता व्यक्त की। ये चिंता राज्य की कम, अगली सरकार में अपनी स्थिति क्या होगी, इस पर ज्यादा थी। ये बिना विधायकों वाले महामंडल कल दूसरी सरकार के आने पर पिछला सब कुछ भुलाकर नई सरकार में शामिल नजर आएंगे।

ऐसे में शिवसेना ने कहा, भ्रष्टाचार और जुल्म करके कोई राजनीति करेगा और क्षणभंगुर सत्ता का उपयोग करके तोड़-फोड़ करनेवाला होगा तो उस पतित को जनता नहीं छोड़ेगी।

फिर सत्ता स्थापना के निमित्त पतितों के जोर से बांग देने का मामला शुरू हो गया है। जिनका बीजेपी, हिंदुत्व की विचारधारा से रत्ती भर भी संबंध नहीं है, ऐसे कुछ ‘पतित’ नए विधायकों से संपर्क करके ‘थैली’ की भाषा बोल रहे हैं।

यह भी देखें… गुरुग्राम में गुर्जरों की महापंचायत, दहेज में नहीं लेंगे महंगी कारें

भाजपा नेता मिलेंगे राज्यपाल से

बता दें कि मुंबई में आज का दिन राजनीतिक घटनाक्रमों से भरा रहने वाला है। भाजपा के नेता आज राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करेंगे। बीजेपी नेता राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं।

बुधवार को बीजेपी विधायक सुधीर मुनगंटीवार ने कहा था कि जल्दी ही लोगों को खुशखबरी सुनने को मिलेगी। बीजेपी ने खुशखबरी सुनाने की बात तो कह दी, लेकिन आंकड़ों का ब्यौरा नहीं दिया।

इसके साथ ही बीजेपी राज्यपाल से मिलने जा रही है तो शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने दोपहर 12 बजे पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई है। शिवसेना को अपने विधायकों के टूटने का डर सता रहा है। वे इस बैठक के जरिए शिवसेना एकजुटता दिखाने की कोशिश करेगी।

यह भी देखें… रायबरेली: डीएम सुभ्रा सक्सेना ने अवैध कांप्लेक्स के निर्माण के खिलाफ कार्रवाई का दिया आदेश

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App