सेना के हथियार डिपो के पास बड़ा धमाका, हिल गया पूरा कश्मीर, कई घायल

जम्मू-कश्मीर के खुंदरू अनंतनाग के पास स्थित आर्मी डिपो में विस्फोट होने से पूरे इलाके में अफरा-तफरी मच गई है। इस विस्फोट में दो नागरिक घायल हुए हैं। माना जा रहा है यह विस्फोट आर्मी के हथियार डिपो के पास हुआ है।

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के खुंदरू अनंतनाग के पास स्थित आर्मी डिपो में विस्फोट होने से पूरे इलाके में अफरा-तफरी मच गई है। इस विस्फोट में दो नागरिक घायल हुए हैं। माना जा रहा है यह विस्फोट आर्मी के हथियार डिपो के पास हुआ है।

इस विस्फोट में घायल होने वाले नागरिकों में शबीर अहमद खान निवासी लार्नो कोकरनाग और फिदा हुसैन निवासी गोपालपुरा शामिल हैं। इन दोनों को अनंतनाग के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां इनका इलाज चल रहा है।

ये भी पढ़ें…जम्मू कश्मीर से बड़ी खबर,अब यहां के लोग नहीं छोड़ेंगे घरबार, जानिए क्यों?

शोपियां जिले में दो आतंकी ढेर

जम्मू कश्मीर से सोमवार सुबह सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ की खबर है। शोपियां जिले के खाजपुरा रेबन इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है। अधिकारियों ने बताया कि अबतक सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है, जबकि एक और आतंकी अभी घिरा हुआ है।

एक अधिकारी ने बताया कि इस क्षेत्र में आतंकियों के छुपे होने की सूचना मिलने के बाद सर्च ऑपरेशन चलाया गया। ऑपरेशन के तहत जैसे ही सुरक्षाबल संदिग्ध इलाकों की ओर बढ़ने लगे, वहां छुपे आतंकियों ने उनपर फायरिंग शुरू कर दी। इसके जवाब में सुरक्षाबलों ने भी फायरिंग की। उन्होंने यह भी बताया कि फिलहाल एक और आतंकी के छिपे होने की आशंका है।

बता दें कि दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के वाथू गांव में रविवार शाम आतंकियों की मौजूदगी की सूचना के बाद सर्च ऑपरेशन चलाया गया था। सूत्रों के अनुसार, सुरक्षाबलों को इस बात के पुख्ता सबूत मिले थे कि वाथू गांव में कुछ आतंकी मौजूद हैं।

इसके बाद 62 राष्ट्रीय राइफल्स, सीआरपीएफ की 14वीं बटालियन व जम्मू-कश्मीर पुलिस की संयुक्त टीम ने इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू कर दी।

जम्मू पुलिस की बड़ी कामयाबी, पाकिस्तानी जासूस से मिले कई अहम सुराग

रविवार को पाकिस्तान ने दागे थे मोर्टार

मालूम हो कि नियंत्रण रेखा पर तीन दिन की खामोशी के बाद रविवार को एक बार फिर पाकिस्तानी सेना ने कीरनी और कस्बा से सटे इलाकों में सेना की चौकियों के साथ ही रिहाइशी इलाकों को निशाना बना कर मोर्टार दागे थे। इससे इलाके में दहशत का माहौल बन गया था।