अभी-अभी बड़ा फैसला: अब सील होगा ये पूरा इलाका, मौत का बढ़ा प्रकोप

दिल्ली में रोजाना कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों से यहां का माहौल और भी घातक होता जा रहा है। दिल्ली-एनसीआर के जाने-माने शहरों में एक गाजियाबाद भी कोरोना का नया अड्डा बनता दिखाई दे रहा है।

नई दिल्ली। दिल्ली में रोजाना कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों से यहां का माहौल और भी घातक होता जा रहा है। दिल्ली-एनसीआर के जाने-माने शहरों में एक गाजियाबाद भी कोरोना का नया अड्डा बनता दिखाई दे रहा है। गाजियाबाद के वैशाली इलाके में बीते कुछ दिनों में कोरोना वायरस के 30 मामले सामने आ चुके हैं। बीते 5 दिनों में ही यहां कोरोना वायरस के 11 नए केस सामने आ चुके हैं।

ये भी पढ़ें…‘मन की बात’ में बोले पीएम मोदी: देश अब खुल गया है, ज्यादा सतर्क रहें

‘सेक्‍टर स्‍कीम’ शुरू करने की योजना

शहर में कोरोना के इन बढ़ते केसों के चलते गाजियाबाद प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है। जानकारी के अनुसार, स्‍थानीय प्रशासन ने ‘सेक्‍टर स्‍कीम’ शुरू करने की योजना बनाई है।

प्रशासन की इस योजना के तहत यहां का कोई भी निवासी न तो बाहर जा सकेगा और न ही कोई बाहरी इस क्षेत्र में प्रवेश कर सकेगा। बस मेडिकल इमर्जेंसी की स्थिति में ही आने-जाने की इजाजत ही होगी।

ताजा जानकारी के अनुसार, दिल्ली में कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर 122 तक पहुंच गई है। वहीं एक दिन पहले 102 कंटेनमेंट जोन थे और एक दिन में इस लिस्ट में 20 और जोन जोड़े गए हैं। अभी तक 53 जोन को डीकंटेन किया गया है।

ये भी पढ़ें…यहां 2 घंटे में गई 7 मरीजों की जान, नर्स ने कहा- ऐसा मंजर पहले कभी नहीं देखा

कंटेनमेंट जोन की संख्या में भी बढ़ोत्तरी

इसके साथ ही राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामलों से हालत और भी खराब होती जा रही है। वहीं हाल ही में दिल्ली में कोरोना कंटेनमेंट जोन की संख्या में भी बढ़ोत्तरी देखी गई थी।

पूरा कोरोना अस्पताल

ऐसे में अब दिल्ली सरकार ने अहम आदेश लिया है। उत्तर पूर्वी दिल्ली का गुरु तेग बहादुर अस्पताल (जीटीबी) अब दिल्ली का दूसरा सबसे बड़ा कोरोना अस्पताल बनेगा।

दिल्ली में अब 1500 बेड का गुरु तेग बहादुर अस्पताल पूरी तरह से कोरोना मरीजों का इलाज करेगा। जिसका मतलब है कि इस अस्पताल में अब और किसी बीमारी का इलाज नहीं होगा। दिल्ली सरकार ने आदेश दिया है कि 2 जून तक इस अस्पताल को सिर्फ कोरोना मरीजों के तैयार किया जाए। इसका काम शीघ्र अति शीघ्र होना चाहिए।

ये भी पढ़ें…राशनकार्ड धारकों के लिए खुशखबरी: शुरू हुई राहत देने वाली ये योजना