×

चिदंबरम पर बड़ी खबर: पत्नी के साथ जा सकते हैं जेल, मद्रास हाईकोर्ट से भी झटका

सांसद कार्ति पी. चिदम्बरम और उनकी पत्नी श्रीनिधि कार्ति चिदम्बरम के खिलाफ आयकर विभाग द्वारा कर चोरी के मामले में ट्रायल की कार्यवाही पर रोक लगाने से मद्रास हाईकोर्ट ने इंकार कर दिया है। कार्ति शिवगंगा लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 21 Aug 2019 12:53 PM GMT

चिदंबरम पर बड़ी खबर: पत्नी के साथ जा सकते हैं जेल, मद्रास हाईकोर्ट से भी झटका
X
INX Case: दाखिल चार्जशीट में सामने आए इन 14 आरोपियाें के नाम
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

चेन्नई: सांसद कार्ति पी. चिदम्बरम और उनकी पत्नी श्रीनिधि कार्ति चिदम्बरम के खिलाफ आयकर विभाग द्वारा कर चोरी के मामले में ट्रायल की कार्यवाही पर रोक लगाने से मद्रास हाईकोर्ट ने इंकार कर दिया है। कार्ति शिवगंगा लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं।

न्यायमूर्ति पी.डी. ऑडिकसावलु ने कहा कि संसद सदस्यों और विधान सभा के सदस्यों के खिलाफ विशेष रूप से दर्ज मामलों की सुनवाई के लिए यहां गठित एक विशेष अदालत द्वारा गवाहियों के परीक्षण से याचिकाकर्ताओं के प्रति कोई पूर्वाग्रह नहीं होगा।

यह भी पढ़ें...आप भी जान लें! आखिर बड़े से बहुत बड़े कैसे बने फरार चिदंबरम

न्यायाधीश ने इस बात पर भी जोर दिया कि याचिकाकर्ताओं ने उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल को भी पक्षकार बनाया है कि यह रजिस्ट्री का प्रयास था कि कर चोरी का मामला एग्मोर में एक मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अदालत से विशेष अदालत में स्थानांतरित हो गया।

उन्होंने रजिस्ट्रार जनरल और अपर लोक अभियोजक सी अय्यपराज के समक्ष कागजात पेश करने के लिए बुधवार तक का समय दिया, ताकि इस मुद्दे पर निर्णय लेने से पहले इन को भी सुना जा सके। याचिकाकर्ताओं ने कई आधारों पर मामले को विशेष अदालत में स्थानांतरित करने को चुनौती दी थी और तब तक मुकदमे की कार्यवाही के एक अंतरिम ठहराव की मांग की थी जब तक कि स्थानांतरण के खिलाफ उनकी याचिका का निपटारा नहीं हो जाता।

यह भी पढ़ें...इस महिला के चलते चिदंबरम की गर्दन तक पहुंच गए सीबीआई के हाथ

यह मुद्दा मार्च 2015 में मुट्टुकडु में 1.16 एकड़ संपत्ति की बिक्री के बाद कर के भुगतान से संबंधित था। आईटी अधिकारियों के विज्ञापन में दावा किया गया था कि अकेले 3.65 करोड़ का चेक प्राप्त करने पर बिक्री पर विचार किया गया था और 1.35 करोड़ नकद प्राप्ति के लिए कर का भुगतान नहीं किया गया था।

इस आरोप को झूठा और निराधार बताते हुए, याचिकाकर्ताओं ने अग्नि एस्टेट और फाउंडेशन प्राइवेट लिमिटेड से नकद में कोई पैसा नहीं लेने का दावा किया, जिसने संपत्ति खरीदी थी। चूंकि मामला वर्ष 2015 का था और श्री कार्ति चिदंबरम इस साल मई में ही सांसद बने थे, इसलिए मामला विशेष अदालत में स्थानांतरित नहीं किया गया था।

यह भी पढ़ें...कार से चिंदबरम गायब: तेजी से तलाश में जुटी CBI, लगातार हो रहे खुलासे

याचिकाकर्ताओं का कहना था कि स्थानांतरण पूरी तरह से गलत था क्योंकि यह सीधे सत्र न्यायालय में स्थानांतरित हो गया था। उन्होंने कहा कि चेन्नई में सांसदों और विधायकों के खिलाफ मामलों की सुनवाई के लिए वास्तव में चार विशेष अदालतें थीं (दो सत्र न्यायाधीशों की अध्यक्षता, एक-एक सहायक सत्र न्यायाधीश द्वारा और दूसरी महानगर मजिस्ट्रेट द्वारा) ।

यह भी पढ़ें...वक्त बदला है पर चाल तो वैसी ही है, दस साल पहले ‘शाह’ थे आज ‘चिदंबरम’

आयकर अधिनियम 1995 की धारा 276 सी (वसीयत कर से बचने का प्रयास) में अधिकतम सात वर्ष के कारावास की सजा का प्रावधान है और ऐसे मामलों की सुनवाई केवल सहायक सत्र न्यायाधीश के अधिकारी द्वारा की जा सकती है। एक सेशन जज की अध्यक्षता वाली विशेष अदालत में मामले को सीधे स्थानांतरित करना याचिकाकर्ताओं को अपील के एक अवसर से वंचित करता है, उन्होंने इसका विरोध किया। यह भी तर्क दिया गया कि एक सत्र न्यायाधीश को एक मामले का संज्ञान लेने का अधिकार नहीं था, जब तक कि वह मजिस्ट्रेट द्वारा उसके लिए प्रतिबद्ध नहीं होता।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story