CAA पर BJP सहयोगी अकाली दल सासंद ने किया बड़ा सवाल, जानिए क्या…

केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने नागरिकता कानून में मुस्लिमों को जोड़ने की मांग की है। अकाली दल के राज्यसभा सांसद नरेश गुजराल ने कहा, हमारी पार्टी पूरी तरह से राष्ट्रीय नागरिक रजिस्ट (NRC) के खिलाफ है,

चंडीगढ़: केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने नागरिकता कानून में मुस्लिमों को जोड़ने की मांग की है। अकाली दल के राज्यसभा सांसद नरेश गुजराल ने कहा, हमारी पार्टी पूरी तरह से राष्ट्रीय नागरिक रजिस्ट (NRC) के खिलाफ है, लेकिन सीएए में मुस्लिमों को शामिल किया जाना चाहिए।’

यह पढ़ें….और बढ़ेंगे प्याज के दाम! इस देश के फैसले से लगा तगड़ा झटका

 

बता दें कि सीएए के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक रूप से प्रताड़ित हिंदू, सिख, पारसी, बुद्ध, क्रिश्चियन लोग भारतीय नागरिकता ले सकते हैं। इन पड़ोसी देशों के मुस्लिमों को सीएए के दायरे से बाहर रखा गया है।
एक रिपोर्ट के अनुसार, सांसद नरेश गुजराल ने कहा, सीएए को लेकर शिरोमणि अकाली दल असमंजस की स्थिति में हैं, क्योंकि इसमें धार्मिक रूप से प्रताड़ित किए गए सिखों को नागरिकता देने की बात की गई है, इसलिए इस कानून का हम समर्थन कर रहे हैं।  हालांकि पार्टी अध्यक्ष सुखबीर बादल के विचार है कि सीएए में मुसलमानों को भी शामिल करना चाहिए।’

अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए गुजराल ने कहा, ‘हम आज वाजपेयी जी के समय को याद करते हैं। उन्होंने 20 पार्टियों को एक धागे में पिरोकर रखा था। खास बात ये थी कि उनके दौर में हर पार्टी खुश थी। हर पार्टी को सम्मान भी दिया जाता था।’ उन्होंने कहा कि वाजपेयी जी के उस अंदाज को जिस बीजेपी नेता ने सीखा था, वह थे अरुण जेटली।

यह पढ़ें..6 महीने से रह रहे हैं तो वहीं दर्ज कराना ही होगा NPR, जानें क्या है नियम

नरेश गुजराल का बयान बिहार के सीएम नीतीश कुमार के बयान के एक दिन बाद आया है। एनडीए की सहयोगी पार्टी जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार भी एनआरसी का विरोध कर चुके हैं. वहीं, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक, आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्डी, बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी एनआरसी(NRC) और सीएए( CAA )के विरोध में हैं।