बुलन्दशहर: आईएएस अभय सिंह के घर पर सीबीआई का छापा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भ्रष्ट्राचार के खिलाफ जारी जंग का असर प्रदेश में भी दिख रहा है। मंगलवार को चीनी मिल बिक्री घोटाले यूपी के चार शहरों के 19 ठिकानों में सीबाआई छापे के बाद आज सुबह बुलन्दशहर के जिलाधिकारी और 2013 के तत्कालीन फतेहपुर डीएम अभय सिंह के आवास पर छापा पडा।

Published by Roshni Khan Published: July 10, 2019 | 12:02 pm
Modified: July 10, 2019 | 2:13 pm

लखनऊ: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भ्रष्ट्राचार के खिलाफ जारी जंग का असर प्रदेश में भी दिख रहा है। मंगलवार को चीनी मिल बिक्री घोटाले यूपी के चार शहरों के 19 ठिकानों में सीबाआई छापे के बाद आज सुबह बुलन्दशहर के जिलाधिकारी और 2013 के तत्कालीन फतेहपुर डीएम अभय सिंह के आवास पर छापा पडा। सीबीआई की इस कार्यवाही से प्रशासनिक खेमें में तहलका मच गया। इसके पूर्व मंगलवार को ही पूर्व आईएएस नेतराम के यहां भी छापेमारी की कार्यवाही की गयी।

ये भी देंखे:वर्ल्ड कप 2019: फील्ड पर चहल को विराट कोहली ने इसलिए दी गाली, VIDEO वायरल

2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल के दौरान अभय सिंह फतेहपुर के डीएम थें उन पर आरोप है कि उन्होंने बिना नियम कानून के मनचाहे लोगों को अवैध खनन का काम दिया। छापेमारी के दौरान अभय सिंह के आवास पर पहुंचकर सीबीआई टीम ने कई दस्तावेजों को अपने कब्जे में ले लिया है।

इसके अलावा मुरादाबाद में प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक में महाप्रबंधक शैलेश रंजन के घर पर सुबह सीबीआइ की टीम ने छापा मारा। मेरठ में पंजाब नेशनल बैंक में एजीएम रहे शैलेश रंजन हाल ही में प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक में महाप्रबंधक पद पर आए हैं। गाजियाबाद नंबर की दो गाड़ियों में सवार होकर टीम रामनगंगा विहार स्थित इंपीरियल ग्रीन के फ्लैट में पहुंची।

उनके चालक को बाहर रोक दिया और टीम ने अंदर से कमरा बंद कर लिया। सीबीआइ की टीम की जानकारी मिलते ही पूरी कॉलोनी में खलबली मच गई।

ये भी देंखे:क्या ऑपरेशन लोटस 3.0 के दम पर कर्नाटक में सरकार बना पाएगी बीजेपी!

मंगलवार को सीबीआइ की टीमों ने बसपा सुप्रीमो मायावती के प्रमुख सचिव तथा प्रमुख सचिव गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग रहे नेतराम (सेवानिवृत्त आइएएस) के गोमतीनगर स्थित आवास तथा बसपा सरकार में चीनी मिल निगम संघ के एमडी रहे विनय प्रिय दुबे (सेवानिवृत्त आइएएस ) के अलीगंज स्थित घर समेत 14 ठिकानों पर छापेमारी की थी। सीबीआइ की टीम ने लखनऊ के अलावा सहारनपुर, गाजियाबाद व दिल्ली में भी छापेमारी की।

सीबीआइ ने करोड़ों रुपये की संपत्तियों सहित घोटाले से जुड़े कई अहम दस्तावेज कब्जे में लिये हैं। इससे पूर्व आयकर विभाग ने लोकसभा चुनाव से पहले नेतराम व उनके करीबियों के ठिकानों पर छापेमारी कर 225 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्तियों के दस्तावेज कब्जे में लिये थे।