चिदंबरम को करें नजरबंद, जानें ऐसा क्यों बोला कपिल सिब्बल ने

INX मीडिया मामले में सीबीआई ने पी. चिदंबरम को बचाने में लगातार जुटे हैं कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल। आपकों बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में पी. चिदंबरम मामले की सुनवाई शुरू हो गई है। वहीं इस मामले के बीच कपिल सिब्बल ने काफी चौकाने वाला बयान दिया है।

Published by Vidushi Mishra Published: September 2, 2019 | 2:20 pm
Modified: September 2, 2019 | 3:24 pm
चिदंबरम को करें नजरबंद, जानें ऐसा क्यों बोला कपिल सिब्बल ने

चिदंबरम को करें नजरबंद, जानें ऐसा क्यों बोला कपिल सिब्बल ने

नई दिल्ली : INX मीडिया मामले में सीबीआई ने पी. चिदंबरम को बचाने में लगातार जुटे हैं कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल। आपकों बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में पी. चिदंबरम मामले की सुनवाई शुरू हो गई है। वहीं इस मामले के बीच कपिल सिब्बल ने काफी चौकाने वाला बयान दिया है। उन्होने यह कह डाला कि चिदंबरम को नजरबंद कर दो। आईए जानते कपिल सिब्बल के इस बयान की वजह क्या है।

पी. चिदंबरम की तरफ से वकील कपिल सिब्बल ने कहा-  हमारी अपील कोर्ट ने नहीं सुनी, हमने अपने नोटिस का जवाब आधी रात को ही दिया। हमने रिमांड में भी चुनौती दी है।

यह भी देखें… अभिनंदन का न्यू लुक! पूरे जोश के साथ मिग -21 लड़ाकू विमान उड़ाया

उन्होंने कहा कि सीबीआई का नोटिस वैध नहीं था, क्योंकि हमारा मामला सुप्रीम कोर्ट में था। 74 साल के पी. चिदंबरम को घर में ही नजरबंद रख सकते थे।

कपिल सिब्बल ने कहा कि पी. चिदंबरम को अंतरिम प्रोटेक्शन दीजिए, वो कहीं जाएंगे नहीं। अगर उन्हें तिहाड़ भेजा गया, तो उनकी अपील का फायदा नहीं होगा।

कपिल सिब्बल ने कहा कि पी. चिदंबरम 74 साल के हैं, पूर्व मंत्री हैं और ऐसे में उनके साथ इस तरह का व्यवहार किया जा रहा है। पी. चिदंबरम को तिहाड़ ना भेजा जाए, बस घर में नजरबंद कर दिया जाए।

सुप्रीम कोर्ट ने पी. चिदंबरम को जो राहत दी है, उसको लेकर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता एक बार फिर अदालत से अपील करेंगे। सीबीआई की ओर से अपील की जाएगी कि इस तरह की राहत ना दी जाए।

यह भी देखें… कश्मीर में हंगामा! पाकिस्तान का शुरू हुआ पोस्टर वॉर, नहीं बाज आ रहा इमरान

आपको बता दें कि पी. चिदंबरम के इस मामले की सुनवाई जस्टिस भानुमती, जस्टिस बोपन्ना की बेंच के सामने हो रही है। वहीं सीबीआई की ओर से अपील की गई है कि इस मामले को मंगलवार को सुना जाए। हालांकि, पी. चिदंबरम की तरफ से इसका विरोध किया गया है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App