पाकिस्तान-चीन हैं साथ: अब यहां तैनात कर दी गई सेना, बॉर्डर पर घेराबंदी

पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर चीनी सेना लगातार भारत के अपनी ताकत का रौब दिखाते हुए घुसपैठ करने की फिराक में है। लेकिन ऐसे में अब चीन फिर से नई चाल चल रहा है, इसके लिए वो पाकिस्तान का साथ ले रहा है।

नई दिल्ली : पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर चीनी सेना लगातार भारत के अपनी ताकत का रौब दिखाते हुए घुसपैठ करने की फिराक में है। लेकिन ऐसे में अब चीन फिर से नई चाल चल रहा है, इसके लिए वो पाकिस्तान का साथ ले रहा है। चीन ने पाकिस्तान के बॉर्डर से भारत को पश्चिमी बॉर्डर पर घेरने की जबरदस्त हिमाकत करना शुरू कर दिया है।

ये भी पढ़ें… शहादत पर बोले PM Modi: हमें कोई भी रोक नहीं सकता, वे मारते-मारते मरे हैं…

कादनवारी प्रमुख रूप से शामिल

चीन पाकिस्तान के रास्ते इस घेराबंदी में चाइना-पाकिस्तान गलियारे की मदद से पश्चिमी सीमा के पास सड़कों का जाल बिछा रहा है। इसके साथ ही जैसलमेर से लगती सीमा के सामने सीमा पार चल रहे तेल गैस के अपने विशेषज्ञों को बैठा दिया है।

और तो और इसके अलावा पश्चिमी सीमा के सामने कई नये एयरपोर्ट बनाये जाने की संभावित जानकारी मिली है जिसमें कादनवारी प्रमुख रूप से शामिल है।

दरअसल चीन ‘अंडर स्ट्रिंग ऑफ पल्स’ के तहत लद्दाख के बाद पश्चिमी सीमा से भारत की घेराबंदी में लग गया है। चीन ना केवल पाकिस्तान को टैंक, हवाई जहाज, रडार आदि जरूरत के सामान दे रहा है बल्कि अब वह पाकिस्तान के साथ मिलकर जैसलमेर-बीकानेर आदि से लगती पश्चिमी सीमा पर अपनी सामरिक स्थिति भी मजबूत करने की कोशिशों में लगा हुआ है।

ये भी पढ़ें…पाएं करोड़ो की सैलरी: आना चाहिए बस ये काम, फिर देखिये समय का कमाल

जाल बिछाने की पश्चिमी सीमा पर कोशिशें जारी

अभी हाल में ही चीन ने बाड़मेर के मुनाबाव के सामने सीमा पार व जैसलमेर के शाहगढ़ बल्ज के सामने कादनवारी क्षेत्र में नये एयरपोर्ट बनाये हैं।

ऐसे में इसके अलावा गुजरात के सामने सीमा पार मीठी क्षेत्र में भी नया एयरपोर्ट बन रहा है व चाइना-पाकिस्तान कॉरिडोर के नाम पर कई रेल लाइन व सड़कों का जाल बिछाने की पश्चिमी सीमा पर कोशिशें की जारी हैं।

इसी बारे में बताया जा रहा हैं कि चीन ने भारत से लगती पाकिस्तान सीमा में 30,000 करोड़ से ज्यादा इन्वेस्टमेंट किया है। चीन ने अपनी कंपनियों को फिर से चलाने और बचाने के लिए पाकिस्तान के अंदर अपना खुद का इलाका बना लिया है जहां पाकिस्तानी भी बिना पूछे नहीं जा सकते हैं।

ये भी पढ़ें…फिर निर्भया कांड: चलती बस में हैवान लूटते रहे आबरू, चिल्लाती रही पीड़िता

अलर्ट रखना चाहिए

इसी कड़ी में सेना के रिटायर्ड ब्रिगेडियर बीके खन्ना कहते हैं कि चाइना की नजर अब पश्चिमी सीमा पर है। भारत सरकार को अलर्ट रखना चाहिए व पूरा ध्यान इस तरफ देना चाहिए। पाकिस्तान व चीन से पहले धोखा खा चुके हैं, अब संभल कर भारत को तैयारी करनी चाहिए।

वहीं इस बारे में पूर्व सांसद व डिफेंस विशेषज्ञ कर्नल मानवेंद्र सिंह कहते हैं कि चीन द्वारा पाकिस्तान से लगती पश्चिमी सीमा पर प्रेजेंस बढ़ाई जा रही है। पाकिस्तान ने चीन को अपने को गिरवी रख दिया व इतने कर्ज में दबा हुआ हैं कि चीन की हर बात को मानना उसकी मजबूरी है।

हालातों के देखते हुए एक तरफ चीन के विदेश मंत्रालय ने आज भारत के लिए बयान जारी करते हुए ये कहा कि वे भारत के साथ अब और झड़प नहीं करना चाहते, वहीं अब पाकिस्तान की मदद से पश्चिमी सीमा पर घेराबंदी शुरू कर दी है। सेना को हर हालात में चौकन्ना रहना होगा, क्योंकि चीन के ऊपर विश्वास करना घातक भी साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें…धोखेबाज चीन: 45 साल बाद दोहराई अपनी हरकत, शोक में है पूरा देश

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App