मोदी-ममता का मिलन: दीदी ने प्रधानमंत्री को भेंट किया ये तोहफा

ममता बनर्जी ने कहा कि दूसरे कार्यकाल में पीएम के रूप में कार्यभार संभालने के बाद मैं उनसे नहीं मिली थी । मुलाकात का एक उद्देश्य यह भी रहा कि उन्होंने राज्य के विकास के लिए केंद्र सरकार से 13500 करोड़ रुपये की मांग की है । साथ ही राज्य का नाम परिवर्तन करना भी लंबित है ।

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के दौरान  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच जितने भी कड़वाहट पैदा हुए थे सबको भुलाकर आज बुधवार प्रधानमंत्री मोदी से मिलने पीएम आवास पहुंची । इस दौरान सीएम ममता ने पीएम मोदी को मिठाई के साथ कुर्ता भी भेंट किया । उन्होंने पीएम मोदी को बंगाल आने का भी न्योता दिया ।

ममता बनर्जी ने कहा कि दूसरे कार्यकाल में पीएम के रूप में कार्यभार संभालने के बाद मैं उनसे नहीं मिली थी । मुलाकात का एक उद्देश्य यह भी रहा कि उन्होंने राज्य के विकास के लिए केंद्र सरकार से 13500 करोड़ रुपये की मांग की है । साथ ही राज्य का नाम परिवर्तन करना भी लंबित है । हम उनके सुझाव को भी स्वीकार करने को तैयार हैं । ममता बनर्जी ने अपनी इस मुलाकात को चेयर टू चेयर मीटिंग बताया ।

ये भी देखें : पाकिस्तान डरा: 370 के बाद भारत देगा इमरान को ये बड़ा झटका

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से भी मिलने की इच्छा जताई

उन्होंने कहा कि ये कोई राजनीतिक मुलाकात नहीं थी । ममता बनर्जी ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से भी मिलने की इच्छा जताई । उन्होंने कहा कि अगर अमित शाह समय दें तो मैं कल उनसे भी मुलाकात करूंगी । ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने पीएम से आग्रह किया है कि वे दुनिया के दूसरे सबसे बड़े कोल ब्लॉक का उद्घाटन पश्चिम बंगाल में आकर करें ।

ममता साल में भेजती हैं एक-दो कुर्ते

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी के केंद्र में आने के बाद से दोनों नेताओं के रिश्ते अच्छे नहीं रहे हैं । लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी और ममता बनर्जी के बीच जबर्दस्त जुबानी जंग देखने को मिली थी । लेकिन इन कड़वाहट के बीच भी ममता पीएम मोदी को साल में एक-दो कुर्ते भेजती रही हैं । इस बात का खुलासा खुद पीएम मोदी ने किया था ।

ये भी देखें : एएफटी बार में एजीएम के बाद सदस्यों के बीच चुनावी माहौल बनना शुरू

पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव से पहले एक इंटरव्यू में राजनीतिक लोगों से अपने रिश्तों के बारे में जानकारी देते हुए बताया था कि ममता दीदी साल में आज भी मेरे लिए एक-दो कुर्ते भेजती हैं ।

नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में ममता ने हिस्सा नहीं लिया था

ममता बनर्जी इससे पहले कई मौकों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने से बचती रही हैं । मई में दूसरी बार चुनाव जीतने के बाद नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में ममता ने हिस्सा नहीं लिया था । इसके बाद जून में नीति आयोग की बैठक में ममता ने हिस्सा नहीं लिया ।

ये भी देखें : हुआ बड़ा सर्वे, इस रज्य की पुलिस सबसे बेकार

फिर ‘एक देश एक चुनाव’ मसले पर बुलाई गई बैठक में भी ममता ने भाग नहीं लिया था । इससे पहले चुनाव से पहले भी प्रधानमंत्री मोदी ने मई में कहा था कि उन्होंने तूफान फानी पर चर्चा के लिए 2 बार ममता बनर्जी को फोन लगाया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया । तब ममता ने कहा था कि वह उन्हें (नरेंद्र मोदी) को देश का प्रधानमंत्री नहीं मानतीं ।