हवाओं ने बदला रुख, उत्तर भारत में बढ़ी सर्दी, हो सकती है बर्फबारी

  पूरे उत्तर भारत में दिसंबर के आने के साथ ही ठंड का असर दिखने लगा है। लद्दाख के द्रास में शनिवार रात को माइनस 25.4 डिग्री की सबसे सर्द रात के बाद रविवार को न्यूनतम तापमान माइनस 26 डिग्री पहुंच गया। इसी के साथ द्रास रविवार को दुनिया का दूसरा सबसे ठंडा रिहाइशी क्षेत्र रहा। 

Published by suman Published: December 9, 2019 | 9:24 am
Modified: December 9, 2019 | 9:46 am

नई दिल्ली :  पूरे उत्तर भारत में दिसंबर के आने के साथ ही ठंड का असर दिखने लगा है। लद्दाख के द्रास में शनिवार रात को माइनस 25.4 डिग्री की सबसे सर्द रात के बाद रविवार को न्यूनतम तापमान माइनस 26 डिग्री पहुंच गया। इसी के साथ द्रास रविवार को दुनिया का दूसरा सबसे ठंडा रिहाइशी क्षेत्र रहा।

यह पढ़ें…लता मंगेशकर के अस्पताल से घर वापस आने पर दिलीप कुमार ने ऐसे जाहिर की खुशी

वहीं कश्मीर घाटी का हवाई संपर्क भी खराब मौसम के कारण लगातार दूसरे दिन कटा रहा, जबकि हिमाचल प्रदेश के रोहतांग दर्रे पर 19 दिन से बंद पड़ी वाहनों की आवाजाही शुरू हुई लेकिन बर्फीले तूफान ने फिर बंद कर दी। कश्मीर घाटी में कोहरे की परत से घिरे श्रीनगर (माइनस 4 डिग्री) में सामान्य से 3.5 डिग्री नीचे तापमान के साथ इस सीजन की सबसे सर्द रात रही। इसके चलते डल झील के कुछ हिस्से समेत आसपास के सभी जल स्रोतों और पाइपलाइनों पर बर्फ की परत चढ़ गई है और पेयजल सप्लाई प्रभावित हो गई है।

पर्यटन स्थल पहलगाम (माइनस 6.2 डिग्री) घाटी में सबसे ठंडा रहा, जबकि गुलमर्ग में माइनस 5.6 डिग्री तापमान रहा। श्री माता वैष्णो देवी के आधार शिविर कटरा में न्यूनतम तापमान 8.2 डिग्री, जबकि जम्मू में 8 डिग्री दर्ज किया गया। मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली में रविवार सुबह स्मॉग के चलते कोहरा छाया रहा। साथ ही राजधानी का न्यूनतम तापमान भी 8.7 डिग्री पर पहुंच गया है। पंजाब में आदमपुर (4 डिग्री), जबकि हरियाणा में करनाल (6.2 डिग्री) सबसे ज्यादा ठंडा रहा। अमृतसर में 5.7 डिग्री, भटिंडा में 5.9 डिग्री, लुधियाना में 6.9 डिग्री, हिसार में 7.1 डिग्री, रोहतक में 7.8 डिग्री, नारनौल में 7 डिग्री व सिरसा में 7.4 डिग्री न्यूनतम तापमान रहा।राजस्थान में 12 डिग्री तापमान रहा।

यह पढ़ें…आज संसद में गूंजेंगे विरोध के स्वर, अमित शाह पेश करेंगे नागरिकता संशोधन बिल

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने 10 दिसंबर को पश्चिमी विक्षोभ का असर शुरू होने की संभावना जताई है। विभाग का आकलन है कि पश्चिमी विक्षोभ के चलते 11 और 12 दिसंबर को उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी के अलावा मैदानी इलाकों में बारिश हो सकती है। इसके चलते तापमान में कमी आएगी और शीतलहर चल सकती है। मौसम विभाग ने समुद्री इलाकों में भी पश्चिमी विक्षोभ के चलते भारी बारिश, तूफानी हवाओं और ऊंची लहरों की संभावना जताई है

उत्तर प्रदेश में सूखी ठंड का कहर बढ़ने लगा है। रविवार को मुजफ्फरनगर जिला 6.2 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान आंका गया। लखनऊ में सामान्य से 2 डिग्री ज्यादा 12.1 डिग्री तापमान रहा। राज्य में बहराइच-बांदा (10-10 डिग्री), अलीगढ़ (9.8 डिग्री), शाहजहांपुर (9.6 डिग्री), मेरठ (9 डिग्री), बरेली (8.3 डिग्री) और बस्ती (8 डिग्री) में न्यूनतम तापमान का स्तर 10 डिग्री से नीचे दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने कोहरे का कहर बढ़ने की चेतावनी दी है।