लॉकडाउन: अर्थव्यवस्था पर कोरोना की मार, IFM ने GDP को लेकर जताया ये अनुमान

कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा किए गए देशव्यापी लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान हो रहा है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने इसे देखते हुए चालू वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी विकास दर महज 1.9% रहने का अनुमान जताया है।

Published by suman Published: April 14, 2020 | 8:36 pm
Modified: April 14, 2020 | 9:21 pm

नई दिल्ली कोरोनावायरस महामारी को रोकने के लिए भारत सरकार ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू किया है। इसके तहत कारखानों और तमाम व्यवसाय को बंद कर दिया गया है। साथ ही उड़ानों, ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया है। इसके साथ ही लोगों की आवाजाही पर भी पाबंदियां लागू की गई हैं। विश्व बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन की वजह से घरेलू आपूर्ति और मांग में कमी की वजह से वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की आर्थिक विकास दर में भारी गिरावट दर्ज की जाएगी।

केंद्र सरकार द्वारा किए गए देशव्यापी लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान हो रहा है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने इसे देखते हुए चालू वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी विकास दर महज 1.9% रहने का अनुमान जताया है। लॉकडाउन के कारण तमाम उद्योगों का कामकाज बंद है और निर्यात भी काफी प्रभावित हुआ है। इससे पहले कई और रेटिंग एजेंसियां भारत के जीडीपी विकास दर अनुमान को घटा चुकी हैं।

 

यह पढ़ें…Covid19: लोगों की मदद के लिए जीवन भर की पूंजी नीलाम कर रही हैं ये बॉलीवुड सिंगर

 

फिच का यह है अनुमान

कोरोना वायरस महामारी को रोकने को लिए देशभर में किए गए लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था पर बड़ा प्रतिकूल असर पड़ने जा रहा है। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी फिच रेटिंग्स ने भारत के वृद्धि अनुमानों को घटाकर दो प्रतिशत कर दिया है। यह 30 साल का न्यूनतम स्तर होगा। पहले उसने अनुमान घटाकर 5.1 प्रतिशत किया था।

वित्त वर्ष 2019-20

कोरोना वायरस संक्रमण तथा इसकी रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के कारण वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर कई दशक के निचले स्तर 1.6 प्रतिशत पर आ सकती है। गोल्डमैन सैश ने यह अनुमान व्यक्त किया है। कोरोना वायरस संकट से पहले भी नरमी के चलते वित्त वर्ष 2019-20 में देश की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर पांच प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था।

यह पढ़ें…JCB से खोदी जा रही क्रब, भारत का ऐसा होगा हाल कभी सोचा भी न था…

 

अर्थव्यवस्था पर बुरा असर

कोरोना वायरस के कारण देश में चल रहे लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ रहा है। इस बीच ब्रिटेन के प्रमुख बैंक बार्कलेज ने कैलेंडर ईयर 2020 में भारत की जीडीपी ग्रोथ शून्य फीसदी रहने का अनुमान जताया है। इससे पहले बार्कलेज बैंक ने 2020 में जीडीपी ग्रोथ 2.5 फीसदी रहने का अनुमान जताया था।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App