शर्मनाक: शवों के साथ नहीं देखी होगी ऐसी बदसलूकी, कर्नाटक में मचा बवाल

कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वाले लोगों के शव को एक गड्ढे में फेंक-फेंक कर दफनाने का वीडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मचा हुआ है।ये वीडियो कर्नाटक के बल्लारी जिले के कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने भी शेयर किया है और इस अमानवीय तरीके पर सवाल उठाए हैं।

Published by suman Published: July 1, 2020 | 10:29 am

बेल्लारी  :   कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वाले लोगों के शव को एक गड्ढे में फेंक-फेंक कर दफनाने का वीडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मचा हुआ है।ये वीडियो कर्नाटक के बल्लारी जिले के कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने भी शेयर किया है और इस अमानवीय तरीके पर सवाल उठाए हैं।

शवों के साथ अमानवीय व्यवहार

वीडियो में एक-एक कर एम्बुलेंस से शवों को निकाला गया और बेदर्दी से गड्ढे में कूड़े की तरह फेंक दिया गया। सरकारी कर्मचारियों के ऐसे बर्ताव पर राजनीतिक दल भी नाराजगी जता रहे हैं। इस वीडियो को लेकर कांग्रेस-जेडीएस ने सरकार को घेरा है। जेडीएस ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘‘सावधान हो जाइये, अगर खुदा ना खास्ता आपका या आपके परिवार का कोई सदस्य कोविड-19 से मर जाता है तो कर्नाटक की बीजेपी सरकार इस तरह शव को अन्य शवों के साथ एक गड्ढे में फेंक देती है।” जेडीएस ने पूछा कि क्या यही वैल मैनेजमेंट है, जिसकी हर दिन मीडिया में चर्चा की जाती है।

 

यह पढ़ें..चीन की शातिर चाल, अब हांगकांग और सिंगापुर के जरिए शुरू किया ये खेल

 

 

कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार ने भी येदियुरप्पा सरकार को घेरा और ट्वीट में लिखा, ‘‘बेल्लारी में कोरोना मरीजों के शवों को ऐसी अमानवीयता से गड्ढे में फेंका जाना विचलित करने वाला है। इससे पता चलता है कि सरकार कोरोना संकट को किस तरह संभाल रही है।मैं बीजेपी सरकार से अपील करता हूं कि वो इसपर संज्ञान ले।”

 

जांच के आदेश

बेल्लारी प्रशासन ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो पर संज्ञान लिया है। यह वीडियो इसी जिले का है। गड्ढे में कोरोना वायरस की वजह से मरने वाले आठ मरीजों के शव फेंके गए थे। इस मामले की जांच के आदेश दिए जा चुके हैं। पहली नजर में ऐसा लगता है कि प्रोटोकॉल का पालन हुआ है लेकिन मानवता के लिहाज से देखा जाए तो जो हुआ वो गलत है।

 

यह पढ़ें…अमेरिका ने चीन को दिया तगड़ा झटका, इन दो कंपनियों को बताया देश के लिए खतरा

सरकार ने दिया जवाब

इस मामले को सरकार ने संज्ञान लिया है। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने भी घटना पर हैरानी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि कोविड पीड़ित लोगों के शवों के साथ स्वास्थ्यकर्मियों का ऐसा बर्ताव अमानवीय और दर्दनाक है। हालांकि, कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री बी. श्रीरामुलु ने कहा है कि जो स्वास्थ्यकर्मी इस घटना में शामिल थे, उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है।उन्होंने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों को ऐसा करते वक्त प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए।

 

बता दें कि बल्लारी में कोरोना वायरस के चलते अभी तक 29 लोगों की मौत हुई है। वहीं, कर्नाटक में आज यानी मंगलवार को कोरोना वायरस के 947 नए मामले सामने आए हैं और 20 लोगों की मौत हो गई है। राज्य में अब कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मरीजों की संख्या 15,242 हो गई है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App