देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में तेजी, पांच लाख के ऊपर पहुंची मरीजों की संख्या

देश में कोरोना के संक्रमण की रफ्तार काफी तेज बनी हुई है। शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन 18000 से ज्यादा केस मिलने के साथ ही देश में कोरोना से संक्रमित…

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली: देश में कोरोना के संक्रमण की रफ्तार काफी तेज बनी हुई है। शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन 18000 से ज्यादा केस मिलने के साथ ही देश में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या पांच लाख के ऊपर पहुंच गई। शुक्रवार को देर रात देश में कोरोना से संक्रमिक केस बढ़कर 509446 हो गए। सबसे बुरी स्थिति महाराष्ट्र की है और वहां कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के ऊपर पहुंच गया है। महाराष्ट्र में एक दिन में 5000 से ज्यादा मरीज मिले हैं।

ये भी पढ़ें: हॉन्ग-कॉन्ग पर चीन के खिलाफ अमेरिका का सख्त फैसला, बौखला जाएंगे शी जिनपिंग

एक जुलाई तक हो सकती है छह लाख संख्या

देश में कोरोना की रफ्तार में काफी तेजी बनी हुई है और हर 5- 6 दिन में रोजाना आने वाले केसों की संख्या में करीब एक हजार की बढ़ोतरी हो रही है। जानकारों का कहना है कि अगर रफ्तार में यही तेजी बरकरार रही तो एक जुलाई की रात तक देश में कोरोना मरीजों की संख्या छह लाख तक पहुंच जाएगी और अगले 5 दिनों में यानी 6 जुलाई को यह आंकड़ा सात लाख तक पहुंच सकता है।

ये भी पढ़ें: भारत ने दी चीन को चेतावनी, LAC पर अपनी हरकतों से बाज आए, नहीं तो…

149 दिन में हुए इतने ज्यादा मरीज

भारत में कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पांच लाख तक पहुंचने में 149 दिन लगे हैं। देश के लिए राहत की बात है कि दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले भारत में संक्रमण की रफ्तार अभी धीमी है। अमेरिका में सबसे तेज 82 दिनों में पांच लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो गए थे जबकि भारत में इतने मामले होने में 149 दिन का वक्त लगा है। वैसे पहले की अपेक्षा कोरोना के संक्रमण की रफ्तार में तेजी आई है। कोरोना का पहला मामला 30 जनवरी को सामने आया था और 110 दिन बाद यानी 10 मई को यह संख्या बढ़कर एक लाख हुई थी। उसके बाद संक्रमण की रफ्तार में लगातार तेजी आ रही है। 20 जून को कोरोना संक्रमितों की संख्या चार लाख के पार हुई थी और फिर 6 दिन में ही यह आंकड़ा पांच लाख को पार कर गया।

ये भी पढ़ें: ”गुरु आपको सिर्फ ज्ञान से नहीं भर देते, बल्कि आपके भीतर प्राण शक्ति को जगाते हैं”

कई राज्यों ने उठाए कड़े कदम

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कई राज्य सरकारों ने अपने स्तर पर कड़े कदम उठाए हैं। झारखंड की सरकार ने लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है। असम के दो जिलों गुवाहाटी और कामरूप में 14 दिन के लॉकडाउन का एलान किया गया है। दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेज होने के कारण सभी स्कूलों को 31 जुलाई तक बंद रखने का एलान किया गया है। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत का कहना है कि पूरे राज्य में कोरोना संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। इसलिए कहा जा सकता है कि यहां कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन होने लगा है।

ये भी पढ़ें: खाने का बाद करते हैं ये गलतियां तो हो जाएं सावधान, नहीं तो पड़ेगा पछताना

केजरीवाल बोले-घबराने की जरूरत नहीं

राजधानी दिल्ली में भी संक्रमण की रफ्तार काफी तेज बनी हुई है और मरीजों की संख्या 77 हजार से ऊपर पहुंच गई है। हालांकि राज्य के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि राजधानी में संक्रमितों की बढ़ती संख्या को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने हालात पूरी तरह नियंत्रण होने का दावा किया है। उनका कहना है कि राजधानी में टेस्ट की संख्या काफी बढ़ा दी गई है। इसलिए ज्यादा केस मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजधानी में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में रोजाना करीब 3000 की बढ़ोतरी हो रही है। मुख्यमंत्री ने दावा किया कि दिल्ली में मरीजों के लिए बेड की किसी प्रकार की कमी नहीं है।

ये भी पढ़ें: खाने का बाद करते हैं ये गलतियां तो हो जाएं सावधान, नहीं तो पड़ेगा पछताना

अमेरिका में आंकड़ा 25 लाख के ऊपर

जहां तक दुनिया का सवाल है तो अमेरिका में कोरोना मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा है और वहां यह आंकड़ा 25 लाख के ऊपर पहुंच गया है। अमेरिका में कोरोना के सवा लाख से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। ब्राजील दूसरे नंबर पर है और वहां करीब साढ़े बारह लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। पूरी दुनिया में जितनी तेजी से कोरोना के केस बढ़ रहे हैं उसे देखते हुए 27 जून को ही दुनिया में मरीजों की संख्या एक करोड़ को पार कर जाएगी।

ये भी पढ़ें: अखिलेश ने रोजगार अभियान को बताया BJP का ड्रामा, सपा कार्यकर्ताओं को दिए ये निर्देश

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App