रेडलाइट एरिया पर भी कोरोना का वार, कुछ ही दिनों में हो गया ऐसा हाल

नई दिल्ली: कोरोना वायरस का कहर दुनिया भर में फैलता जा रहा है। इस भयावह बीमारी का साया अब सिर्फ स्कूल, कॉलेज, बाजार, खेल के मैदान ही नहीं बल्कि एशिया का सबसे बड़ा रेडलाइट इलाका कोलकाता के सोनागाछी पर भी पड़ा है। चाहे दिन हो या रात हर समय गुलजार रहने वाला उत्तर कोलकाता का सोनागाछी इस समय वीरान पड़ा है। कुछ दिनों से यहां सेक्सवर्क सज संवर कर सड़क किनारे खड़ी हो रही हैं लेकिन एक्का, दुक्का ग्राहक ही आ रहे हैं। कोरोना की वजह से लगातार ग्राहकों की संख्या कम हो रही है।

ये भी पढ़ें: Jio लाया बंपर ऑफर: अब नहीं रूकेगा नेट, कम पैसों में मिलेगी सारी सुविधाएं

इतनी दयनीय स्थिति नोटबंदी के समय भी नहीं हुई थी-

सेक्सवर्करों का कहना है कि स्थिति बहुत दयनीय हो चुकी है ग्राहक नहीं मिल रहे हैं। ऐसी हालत तो नोटबंदी के समय भी नहीं हुई। ऐसा क्यों हो रहा है यह पूछने पर सेक्सवर्करों बताया कि कोई रोग फैल रहा है। जिसके कारण लोग इधर आना बंद दिया है। ऐसा ही चलता रहा तो हमलोगों के लिए पेट भरना भी मुश्किल हो जाएगा। इस इलाके में लगभग 25 हजार से ज्यादा सेक्सवर्कर धंधा करती हैं। इनमें से आधे तो महानगर के आसपास के इलाकों से आती हैं और धंधा कर चली जाती है। क्योंकि इन लोगों का सोनागाछी इलाके में रहने के लिए अपना ठिकाना नहीं है।

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस: ऐसे होगा अंतिम संस्कार, सरकार ने बनाए ये नियम

समस्या से निपटने के लिए जागरूकता अभियान शुरू करेगा संगठन-

एक सेक्सवर्कर के मुताबिक आगंतुकों की कमी के कारण पूरे इलाके में सन्नाटा पसरा है। रास्ते पर खड़ी रहने वाली यौनकर्मियों की संख्या 90 से 95 फीसदी कम हो गई है। उनका कहना है कि कोई रोग फैल रहा है। इसलिए लोग अब नहीं आ रहे। जिससे यहां की सेक्सवर्क काफी परेशान हैं। वहीँ सेक्सवर्करों के संगठन ने इस समस्या से निपटने के लिए जल्द ही जागरूकता अभियान शुरू करने का निर्णय लिया है।

कोरोना से बचने के लिए राज्य सरकार ने शुरू किया अभियान-

हालांकि इलाके में कोरोना वायरस से बचने के लिए राज्य सरकार ने प्रचार अभियान शुरू किया है। लेकिन यौनकर्मियों में जागरुकता का अभाव है। यौनकर्मियों की जांच के लिए क्लिीनिक भी है। जहां उनकी नियमित जांच होती है। संगठन सोमवार से इलाके में कोरोना को लेकर जागरूकता अभियान शुरू करेगा।

ये भी पढ़ें: यूपी बोर्ड तक पहुंचा कोरोना का कहर, अब टीचर्स ऐसे चेक करेंगे परीक्षा की कापियां