×

कोरोना वायरस: इन ब्लड ग्रुप के लोगों को ज्यादा है खतरा! रहें सावधान

कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में खौफ का महौल है। यह खतरनाक वायरस अब देश के सामने भी बड़ी चुनौती बनता दिखाई दे रहा है। कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और इससे संक्रमित मरीजों की संख्या अब 154 हो गई है। इनमें 25 विदेशी नागरिक हैं, जबकि तीन लोगों की मौत हो गई है।

Dharmendra kumar
Updated on: 18 March 2020 3:20 PM GMT
कोरोना वायरस: इन ब्लड ग्रुप के लोगों को ज्यादा है खतरा! रहें सावधान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में खौफ का महौल है। यह खतरनाक वायरस अब देश के सामने भी बड़ी चुनौती बनता दिखाई दे रहा है। कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और इससे संक्रमित मरीजों की संख्या अब 154 हो गई है। इनमें 25 विदेशी नागरिक हैं, जबकि तीन लोगों की मौत हो गई है।

इस बीच कोरोना वायरस के संक्रमण पर हुई स्टडी में महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आई हैं। दरअसल वुहान में हुए इस रिसर्च में यह पता लगाने की कोशिश हुई कि किस ग्रुप के लोगों को कोरोना वायरस का ज्यादा खतरा होता है। जानकारी सामने आई है कि जिन लोगों का ब्लड ग्रुप ए है, उन्हें कोरोना के संक्रमण का ज्यादा खतरा है। जबकि ए ब्लड ग्रुप की तुलना में ब्लड ग्रुप 'ओ' वाले लोगों को इसके संक्रमण का खतरा कम है।

यह भी पढ़ें...एमपी में बीजेपी ऐसे बनाएगी सरकार, कांग्रेस का होगा ये हाल

ब्लड ग्रुप को लेकर वुहान में यह रिसर्च किया गया है जिसमें बताया गया है कि कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों में ए ब्लड ग्रुप वालों की सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं। इस रिसर्च में कोरोना वायरस से संक्रमित कुल 2173 मरीजों को शामिल किया गया था, जिनमें से 206 लोगों की संक्रमण की वजह से मौत हो गई।

यह भी पढ़ें...10 लाख फर्जी राशन कार्ड और 2718 करोड़ का घोटाला, FIR हुई दर्ज

रिसर्च में संक्रमित मरीजों के साथ वुहान के 3,694 लोगों को भी शामिल किया गया था जो संक्रमित नहीं थे। ये लोग भी उसी क्षेत्र के रहने वाले थे, लेकिन इस रिसर्च की अभी समीक्षा होनी बाकी है। वुहान के शोधकर्ता यह बताने में असमर्थ हैं कि आखिर ए ब्लड ग्रुप वालों में वायरस का संक्रमण ज्यादा क्यों फैला।

यह भी पढ़ें...फ्लोर टेस्ट पर नहीं आया कोई फैसला, कल भी जारी रहेगी SC में सुनवाई

लेबोरटरी ऑफ एक्सपेरिमेंटल हीमैटोलॉजी के वैज्ञानिक गाओ यिंगदाई के मुताबिक ब्लड ग्रुप ए के मरीजों में संक्रमण की दर और गंभीर लक्षण ज्यादा विकसित हुए, इस ब्लड ग्रुप के मरीजों को ज्यादा सतर्क निगरानी और त्वरित इलाज की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि ये स्टडी कोरोना वायरस का इलाज खोजने में मददगार साबित होगी।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story