Top

कांग्रेस भिड़ी आपस में: चुनाव समिति की सदस्‍यता पर घमासान, उठी वोटिंग की मांग

CWC की बैठक में सीईसी के चुनाव कराने की मांग राज्‍यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा और पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम ने की। हालांकि चिदंबरम उन नेताओं में शामिल नहीं हैं, जिन्‍होंने सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। लेकिन वह भी सीईसी के चुनाव के समर्थन में हैं।

Ashiki Patel

Ashiki PatelBy Ashiki Patel

Published on 8 Feb 2021 6:02 AM GMT

कांग्रेस भिड़ी आपस में: चुनाव समिति की सदस्‍यता पर घमासान, उठी वोटिंग की मांग
X
कांग्रेस: अब चुनाव समिति की सदस्‍यता को लेकर विवाद, उठी मांग ये मांग
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद वापस सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद पर कमान संभाली थी। कांग्रेस में लंबे समय से कयास लगाए जा रहे हैं कि राहुल की फिर अध्यक्ष पद पर ताजपोशी हो सकती है। हालांकि, कई बार गांधी परिवार से अलग अध्यक्ष बनाने की आवाज भी पार्टी में उठी है। वहीं कांग्रेस की बीते शुक्रवार को हुई वर्किंग कमेटी की बैठक के बाद अब पार्टी में एक नया विवाद उत्‍पन्‍न होने के संकेत मिल रहे हैं।

ये भी पढ़ें: धमाके में उजड़ा परिवार: पत्नी-बच्चे ने ऐसे देखा अंतिम संस्कार, रुला देगी ये कहानी

सामने आयी मनमुटाव की स्थिति

एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में बदलावों की मांग करने वाले नेताओं ने यह मांग भी की थी कि पार्टी को एक फुल टाइम और प्रभावशाली नेतृत्‍व चाहिए। इस बीच पार्टी के कुछ ऐसे ही नेताओं ने यह बात कंफर्म की है कि कांग्रेस अध्‍यक्ष और केंद्रीय चुनाव समिति के सदस्‍यों को नियुक्‍त करने के लिए चुनाव की रूपरेखा को स्‍वीकार कर लिया गया है। वहीं जब सीईसी सदस्यों के चुनाव के लिए मांग की गई थी, तब पार्टी में मनमुटाव सामने आया।

रिपोर्ट के मुताबिक CWC की बैठक में सीईसी के चुनाव कराने की मांग राज्‍यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा और पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम ने की। हालांकि चिदंबरम उन नेताओं में शामिल नहीं हैं, जिन्‍होंने सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। लेकिन वह भी सीईसी के चुनाव के समर्थन में हैं। चिदंबरम का कहना है कि सीईसी सदस्‍य को ठीक वैसे ही चुनाव जाना चाहिए जैसे राष्‍ट्रपति के चुनाव के लिए इलेक्‍टोरल कॉलेज की प्रक्रिया होती है।

ये भी पढ़ें: यात्रियों के लिए खुशखबरी: 10 स्टेशन पर नहीं रुकेगी मेट्रो, ‘फास्ट ट्रेन’ की सुविधा शुरू

पार्टी के बड़े नेता शामिल हैं सीईसी में

जानकारी के लिए बता दें कि सोनिया गांधी की अध्‍यक्षता वाली सीईसी सभी तरह के चुनाव के लिए कांग्रेस की ओर से उम्‍मीदवारों का चयन करती है। इसमें राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, वरिष्ठ नेता एके एंटनी, अंबिका सोनी, मुकुल वासनिक, केसी वेणुगोपाल, मोहसिना किदवई, गिरिजा व्यास, जनार्दन द्विवेदी, एम वीरेंद्र मोइली और ऑस्कर फर्नांडीस जैसे पार्टी बड़े नेता इसमें शामिल हैं।

बता दें कि सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले लोग सभी स्‍तरों पर चुनाव चाहते हैं। सीईसी ऐसा ही एक मंच है। सीडब्ल्यूसी के एक पूर्व सदस्य के अनुसार सीईसी की सदस्यता ने ऐसी प्रतिष्ठा हासिल की है, जो पार्टी के शीर्ष निर्णय लेने वाली संस्था सीडब्‍ल्‍यूसी के पास भी नहीं है।

Ashiki Patel

Ashiki Patel

Next Story