Top

धमाके में उजड़ा परिवार: पत्नी-बच्चे ने ऐसे देखा अंतिम संस्कार, रुला देगी ये कहानी

सनी का अंतिम संस्कार भी काबुल में ही किया गया था। लेकिन उनकी पत्नी वहां पर नहीं पहुंच सकीं। ऐसे में महिला ने अपने मोबाइल पर ही वीडियो कॉल के जरिए अपने पति का अंतिम संस्कार देखा।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 8 Feb 2021 5:42 AM GMT

धमाके में उजड़ा परिवार: पत्नी-बच्चे ने ऐसे देखा अंतिम संस्कार, रुला देगी ये कहानी
X
धमाके में उजड़ा परिवार: पत्नी-बच्चे ने ऐसे देखा अंतिम संस्कार, रुला देगी ये कहानी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लुधियाना: कभी-कभी किस्मत कुछ ऐसा कर जाती है, जिसके बारे में किसी ने सपने में भी ना सोचा हो। ऐसा ही कुछ हुआ लुधियान के रहने वाले एक परिवार के साथ। यहां पर रहने वाली महिला का पति अफगानिस्तान (Afghanistan) में मसाले और दवाइयों का कारोबार किया करता था, जिसकी शनिवार को राजधानी काबुल में हुए बम धमाके (Bomb Blast) में मौत हो गई।

वीडियो कॉल के जरिए पत्नी ने देखा दाह संस्कार

लुधियान के सनी सिंह के अलावा इस हादसे में सिख समुदाय के दो और लोग भी घायल हो गए थे। सनी का अंतिम संस्कार भी काबुल में ही किया गया था। लेकिन उनकी पत्नी वहां पर नहीं पहुंच सकीं। ऐसे में महिला ने अपने मोबाइल पर ही वीडियो कॉल के जरिए अपने पति का अंतिम संस्कार देखा। आपको बता दें कि सनी का एक बेटा भी है, जो अक्टूबर में ही पैदा हुआ था।

यह भी पढ़ें: युद्ध की तैयारी में चीन: सीमा पर तैनात किए खतरनाक हथियार, तेजी से बढ़ा रहा सैनिक

पांच महीने का बेटा भी रहा मौजूद

लेकिन अपने घर से दूर होने के चलते सनी एक बार फिर अपने बेटे को नहीं देख सके। रविवार को जब सनी का दाह संस्कार हुआ तो उनका पांच महीने का बेटा भी मां की गोद में था। महिला ने एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए बताया कि सनी रोजाना बच्चे का हाल चाल लेने के लिए फोन किया करते थे। वो पिछले साल ही काबुल गए थे। उन्होंने कहा कि शुक्रवार की रात उसने फोन कर बच्चे का हाल जाना था, लेकिन अगले ही दिन उनकी मौत की खबर आ गई।

यह भी पढ़ें: Newstrack: एक क्लिक में पढ़ें आज सुबह 10 बजे तक की देश और दुनिया की बड़ी खबरें

मां और भाई भी काबुल में

वहीं काबुल से एक और अफगान सिख हरिंदर सिंह खालसा ने बताया कि विस्फोट होने पर सनी, चूचा सिंह और शेर सिंह बाजार में अपनी दुकानों में थे। धमाके से दुकानें पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गईं। चूचा सिंह और शेर सिंह के परिवार भी लुधियाना में हैं। बताया जा रहा है कि काबुल में ही सनी का जन्म हुआ था। उनकी मां और भाई काबुल में ही हैं, लेकिन पत्नी और बेटा लुधियाना में हैं। वो लुधियाना जाने के बारे में सोच रहे थे, लेकिन उससे पहले ही ये बुरी सामने आ गई।

यह भी पढ़ें: Twitter ब्लाॅक करें 1178 अकाउंट: पाक-खालिस्तानी रच रहे साजिश, केंद्र ने की मांग

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर

Shreya

Shreya

Next Story