चक्रवात ‘वायु’: गुजरात के तटवर्ती क्षेत्रों से लोगों को हटाने का अभियान आरंभ

चक्रवात ‘वायु’ के गुजरात की ओर बढ़ने के मद्देनजर राज्य सरकार ने सौराष्ट्र और कच्छ के निचले इलाकों से करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए व्यापक अभियान शुरू किया है। यह जानकारी अधिकारियों ने बुधवार को दी। 

चक्रवात ‘वायु’: गुजरात के तटवर्ती क्षेत्रों से लोगों को हटाने का अभियान आरंभ

अहमदाबाद:  चक्रवात ‘वायु’ के गुजरात की ओर बढ़ने के मद्देनजर राज्य सरकार ने सौराष्ट्र और कच्छ के निचले इलाकों से करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए व्यापक अभियान शुरू किया है। यह जानकारी अधिकारियों ने बुधवार को दी।

मौसम के बारे में ताजा सूचना के अनुसार चक्रवात ‘‘बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान’’ में तब्दील हो गया है और यह गुजरात के वेरावल तट के करीब 340 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है।

मौसम विभाग ने एक बयान जारी करके बताया कि यह वेरावल के निकट तट पर 13 जून की सुबह बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान के तौर पर पहुंचेगा और इस दौरान 145 से 155 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलेगी।

यह भी पढ़ें……तस्वीरें: सीएम योगी ने की DM/SP के संग कानून व्यवस्था की संयुक्त बैठक

राज्य सरकार ने बताया कि चक्रवात से कच्छ, मोरबी, जामनगर, जूनागढ़, देवभूमि-द्वारका, पोरबंदर, राजकोट, अमरेली, भावनगर और गिर-सोमनाथ जिले प्रभावित हो सकते हैं।

उसने बताया कि इन 10 जिलों के निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने मंगलवार को लोगों से अपील की थी कि वे इस बचाव अभियान में सहयोग करें ताकि चक्रवात के कारण जान का नुकसान नहीं हो।

उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने मंगलवार देर रात कहा कि जिला प्रशासन ने निचले इलाकों या तट के समीप रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित करना आरंभ कर दिया है। ‘‘हम इन 10 जिलों के करीब 400 गांवों में रह रहे करीब 2.91 लाख लोगों को स्थानांतरित करेंगे।’’

यह भी पढ़ें……एक बार चार्ज करने से 92 किमी तक चलेंगी कारें, शुरू हुई भारत में यह व्यवस्था

उन्होंने कहा कि उन्हें सरकारी इमारतों या न्यासों एवं गैर सरकारी संगठनों की इमारतों में शरण दी जाएगी।

अतिरिक्त मुख्य सचिव (राजस्व) पंकज कुमार ने कहा, ‘‘राज्य प्रशासन ने इस संबंध में विस्तृत योजना बनाई है कि किन लोगों को स्थानांतरित किया जाना चाहिए और हम इस पर काम कर रहे हैं।’’

उन्होंने बताया कि इस प्रक्रिया में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की करीब 36 कंपनियां स्थानीय प्रशासन की मदद कर रही हैं।

कुमार ने बताया कि इन 10 जिलों में स्कूल, कॉलेजों और आंगनवाड़ियों में 12 और 13 जून को एहतियातन छुट्टी घोषित कर दी गई है।

यह भी पढ़ें……थाला अजीथ ने शिवकार्तिकेयन को दी सलाह, करियर पर असर पड़ने का डर हुआ हावी

तटरक्षक, थलसेना, नौसेना, वायुसेना और सीमा सुरक्षा बल को हाई अलर्ट कर दिया गया है।

एक रक्षा प्रवक्ता ने एक बयान में बताया कि सेना ने गुजरात के तटवर्ती इलाकों में 10 टुकड़ियां तैनात की हैं। उसने 24 टुकड़ियों को तैयार रहने को कहा है और वे बचाव एवं राहत अभियान संचालित करने के लिए तैयार हैं।

हर टुकड़ी में करीब 70 जवान हैं।

(भाषा)