ब्रिटेन में मिली EX CM के बेटे की लाश, इससे पहले पिता ने भी की थी आत्महत्या

20 साल के एक व्यक्ति का शव ब्रिटेन के ब्राइटन शहर में एक फ्लैट के बेडरूम से मिला है। बताया जा रहा है कि यह शव अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कलिखो पुल के बेटे शुभांसो पुल का है।

Published by suman Published: February 12, 2020 | 10:53 am
Modified: February 12, 2020 | 11:42 am

लंदन :  20 साल के एक व्यक्ति का शव ब्रिटेन के ब्राइटन शहर में एक फ्लैट के बेडरूम से मिला है। बताया जा रहा है कि यह शव अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कलिखो पुल के बेटे शुभांसो पुल का है।

यह पढ़ें….जल उठा बेंगलुरु: आग की लपटों में सबकुछ हुआ ख़ाक, 11 लोग झुलसे

स्थानीय पुलिस अधिकारियों को रविवार को यह शव मिला था। पुलिस का कहना है कि मौत को लेकर संदिग्ध परिस्थितियों की बात सामने नहीं आई है, जिससे इसके आत्माहत्या का मामला होने का संदेह है।

ईस्ट ससेक्स पुलिस के बयान में कहा गया है, ‘रविवार (नौ फरवरी) को दोपहर 3 बजकर 41 मिनट पर पुलिस को फालमे से फोन आया, जहां एक व्यक्ति का शव बेडरूम में पड़ा हुआ था।’

 

बयान के अनुसार, ‘वहां संदिग्ध परिस्थितियां नहीं थीं। ब्राइटन और होव के कोरोनर (मृत्यु का कारण पता लगाने वाला व्यक्ति) को सूचना दे दी गई है।’ कोरोनर इस मामले की जांच शुरू करेगा, जिसके बाद मौत का कारण पता लग पाएगा।

यह पढ़ें….यहां हुआ बड़ा आतंकी हमला: थर्रा गया देश, नई भर्ती के सैनिकों की हुई मौत

शुभांसो पुल कलिखो पुल और उनकी पहली पत्नी दांग्विमसाई पुल के पुत्र थे। कहा जा रहा है कि वह ससेक्स विश्वविद्यालय के छात्र थे। इस बीच, ईटानगर में पुल परिवार शुभांसो के शव को वापस लाने के लिए ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग से संपर्क की कोशिश कर रहा है।

पिता ने भी की थी आत्महत्या

कलिखो पुल कांग्रेस और भाजपा के चंद विधायकों के समर्थन से 2016 में कुछ समय के लिए मुख्यमंत्री बने थे। हालांकि उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद उन्हें पद से हटना पड़ा था। पुल ने नौ अगस्त 2016 को अपने सरकारी आवास नीति विहार में कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी। उन्होंने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा था।कलिखो पुल की मौत के बाद उनकी पत्नी दांग्विमसाई पुल ने जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट का रूख किया था। उन्होंने उनकी मौत को लेकर गंभीर षडयंत्र का आरोप लगाया था। भाजपा ने हायुलियांग सीट पर उपचुनाव के लिए उनकी तीसरी पत्नी दसांग्लू पुल को टिकट दिया था। जिस पर उन्होंने जीत हासिल की थी।