कहीं दिल्ली हिंसा में आपका परिवार तो नहीं फंसा: एक कॉल से लगाये पता

राष्ट्रीय राजधानी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है।

Published by Shreya Published: February 26, 2020 | 4:38 pm
कहीं दिल्ली हिंसा में आपका परिवार तो नहीं फंसा: एक कॉल से लगाये पता

कहीं दिल्ली हिंसा में आपका परिवार तो नहीं फंसा: एक कॉल से लगाये पता

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। इनमें से कई लोगों की हालत नाजुक बताई जा रही है। ऐसे में अगर अपने रिश्तेदारों, दोस्तों और करीबियों की जानकारी नहीं ले पा रहे हैं और उनके बारे में पता लगाना चाहते हैं तो आप इन 5 नंबरों पर कॉल करके उनके बारे में जानकारी पा सकते हैं। दिल्ली पुलिस ने 5 नंबरों को सार्वजनिक किया है, जिस पर फोन करके आप अपने रिश्तेदारों, दोस्तों और करीबियों की जानकारी ले सकते हैं।

इन नंबरों पर कर सकते हैं संपर्क

अगर आप गुरू तेग बहादुर अस्पताल में भर्ती लोगों के बारे में जानकारी लेना चाहते हैं तो आप उप निरीक्षक गजेन्दर सिंह से 9818120026 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। वहीं अगर आपको लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल और मौलाना आजाद अस्पताल में भर्ती लोगों के बारे में जानकारी चाहिए तो आप उप निरीक्षक योगेन्दर सिंह से 7982756328 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

वहीं राममनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती लोगों के बारे में जानकारी लेने के लिए आप उप निरीक्षक देवेन्दर सिंह से 9818313342 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। सहायक उप निरीक्षक नरेंद्र राणा से अल हिन्द अस्पताल में भर्ती लोगों के बारे में जानकारी लेने के लिए 9868738042 नंबर पर संपर्क किया जा सकता है।

दिल्ली हिंसा में अब तक 22 लोगों की मौत

उत्तर पूर्वी दिल्ली में पिछले दो दिनों से हर तरफ पत्थरबाजी और आगजनी का माहौल देखने को मिल रहा है। उपद्रवियों ने घरों, दुकानों तथा वाहनों आग के हवाले कर दिया और इसके अलावा कईयों की जान तक ले ली। मरने वाले 22 लोगों में से हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल और IB ऑफिसर अंकित शर्मा का नाम शामिल है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा पर बड़ा खुलासा: IB अफसर की हत्या में इस AAP नेता का हाथ!

हालात को देखते हुए कई इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है। साथ ही हिंसाग्रस्त इलाकों में धारा 144 लागू की गई है। हालात पर काबू पाने के लिए अर्धसैन्य बल पुलिस के साथ इलाकों में गश्त कर रहे हैं।

हिंसा पर काबू पाने के लिए 800 अधिक जवानों की होगी तैनाती

अब दिल्ली में हो रहे हिंसा पर काबू पाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय एक्शन में आ गया है। स्थिति पर नियंत्रण पाने और उपद्रवियों को काबू करने के लिए अब दिल्ली में और अधिक सुरक्षा बढ़ाए जाने की तैयारी है। दिल्ली में अब 800 अधिक जवानों की तैनाती की जाएगी। बता दें कि मंगलवार तक दिल्ली में 37 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां तैनात थी, लेकिन इनकी संख्या को बढ़ाकर 45 कर दिया गया है।

सुरक्षाबलों ने संभाला मोर्चा

वहीं दिल्ली के भजनपुरा इलाके में हिंसा के बाद अब सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाल लिया है। यहां पर बीएसएफ (BSF) द्वारा मार्च किया जा रहा है। बता दें कि भजनपुरा इलाके में उपद्रवियों ने एक पेट्रोल पंप को आग के हवाले कर दिया था और साथ ही गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की गई थी। अर्धसैनिक बलों के जवान पुलिस के साथ मिलकर कई इलाकों में मार्च कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा पर इमरान ने पीएम मोदी को निशाने पर लिया, कही ये बड़ी बात

अजित डोभाल ने हिंसाग्रस्त इलाकों का किया दौरा

बता दें कि हिंसा के बाद अब राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (National Security Advisor- NSA) अजित डोभाल भी एक्शन में आ गए हैं। रात दिल्ली तनाव के बीच अजित डोभाल पुलिस के कमिश्नर अमूल्य पटनायक के साथ मंगलवार देर हालात का जायजा लेने हिंसाग्रस्त इलाकों में पहुंचे। उन्होंने गाड़ी में बैठकर सीलमपुर, भजनपुरा, मौजपुर, यमुना विहार जैसे हिंसा प्रभावित इलाकों की स्थिति का जायजा लिया। इसके बाद पुलिस कमिश्नर, संयुक्त सीपी, डीसीपी समेत कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की।

‘शूट एट साइट’ का मिला आदेश

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर किये जा रहे बवाल को देखते हुए उत्तर पूर्वी दिल्ली में 4 जगहों पर कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में पुलिस को उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने (शूट एट साइट) का आदेश जारी किया गया है। बता दें कि नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर हो रही हिंसा ने उग्र शक्ल अख्तियार कर ली है। सोमवार से अब तक तोड़फोड़ और आगजनी की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

यह भी पढ़ें: कौआ देखते ही निकल लें: वाराणसी पहुंच चुका है जानलेवा वायरस, अलर्ट पर स्वास्थ्य विभाग