भयानक किसान हिंसा: 18 पुलिसकर्मी हो गए घायल, अब तैनात पैरामिलिट्री फोर्स

राष्ट्रीय राजधानी में किसानों द्वारा की गई इस हिंसा में 18 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जिनमें से 1 की हालात गंभीर बताई जा रही है। पुलिसकर्मियों को एलएनजेपी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। किसानों को काबू करने में लगे पुलिसकर्मी खुद हिंसा का शिकार हो गए।

Published by Vidushi Mishra Published: January 26, 2021 | 6:51 pm
police force

फोटो- सोशल मीडिया

नई दिल्ली: दिल्ली में किसान ट्रैक्टर रैली का सबसे बुरा प्रभाव पुलिसकर्मियों पर पड़ा है। किसानों द्वारा की गई इस हिंसा में 18 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जिनमें से 1 की हालात गंभीर बताई जा रही है। पुलिसकर्मियों को एलएनजेपी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। किसानों को काबू करने में लगे पुलिसकर्मी खुद हिंसा का शिकार हो गए। सुबह से चल रही रैली में किसानों ने पूरी दिल्ली को हिला के रख दिया। आज की इस ऐतिहासिक रैली की चर्चा विदेशों में रही। किसानों ने रौद्र रूप से राजधानी में बवाल मचा दिया।

ये भी पढ़ें… Kisan Andolan: सरकार को छोड़नी होगी तानाशाह की छवि, हर हाल में ये करना होगा

आंदोलनकारियों ने हिंसा व तोड़फोड़ का मार्ग चुना

ऐसे में किसान ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा पर दिल्ली पुलिस ने बयान जारी किया है। स्थानीय पुलिस की तरफ से कहा गया है कि आज के ट्रैक्टर रैली के लिए दिल्ली पुलिस ने किसानों के साथ तय हुए शर्तों के अनुसार काम किया और आवश्यक बंदोबस्त किया।

policeforce
फोटो- सोशल मीडिया

जिसके चलते दिल्ली पुलिस ने अंत तक काफी संयम का परिचय दिया, परन्तु आंदोलनकारियों ने तय शर्तों की अवहेलना की और तय समय से पहले ही अपना मार्च शुरू कर दिया और आंदोलनकारियों ने हिंसा व तोड़फोड़ का मार्ग चुना, जिसको देखते हुए दिल्ली पुलिस कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए संयम के साथ ज़रूरी कदम उठाए।

ये भी पढ़ें…बंद होगा लालकिला: पुलिस फोर्स दिखाएगी अपनी ताकत, किसानों का प्रदर्शन जारी

आंदोलनकारियों से अपील

farmers beat police
फोटो- सोशल मीडिया

वहीं इस आंदोलन से जन संपत्ति को काफी नुक्सान हुआ है और कई पुलिसकर्मी घायल भी हुए हैं। फिलहाल अब आंदोलनकारियों से अपील है कि हिंसा का रास्ता छोड़ शान्ति बनाएं और तय हुए रास्ते से वापस लौट जाएं।

हालाकिं दिल्ली में हुए किसान हिंसक प्रदर्शन के बाद गृह मंत्रालय एक्शन में है। राजधानी के वर्तमान हालात को देखते हुए पैरामिलिट्री फ़ोर्स की 15 कंपनियां तैनात कर दी गई हैं। इसमें से 10 कंपनियां CRPF की और 5 कंपनियां अन्य पैरामिलिट्री फ़ोर्स की होंगी।

हालातों से निपटने के लिए सरकार ने दिल्ली में पैरामिलिट्री के 1500 जवानों को तैनात करने का फैसला लिया है। साथ ही दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने सभी जवानों को उपद्रवियों का पूरी शक्ति के साथ मुकाबला करने का आदेश दिया है।

ये भी पढ़ें…ट्रैक्टर रैली शामली: किसानों का कलेक्ट्रेट ऑफिस पर धावा, रोकने में कामयाब पुलिस

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App