केजरीवाल के शपथ समारोह में शिक्षकों के निमंत्रण पर बवाल, BJP नेता ने कहा-

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी  ने एक बार फिर शानदार जीत दर्ज की है। लेकिन फिर भी इसके बाद अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में शिक्षकों को बुलाए जाने का मामला गर्म हो रहा है।

नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी  ने एक बार फिर शानदार जीत दर्ज की है। लेकिन फिर भी इसके बाद अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में शिक्षकों को बुलाए जाने का मामला गर्म हो रहा है।

अब इस मामले में दिल्ली के गवर्नमेंट स्कूल टीचर्स एसोसिएशन ने उपराज्यपाल को पत्र लिखा है। पत्र में मांग की गई है कि इस आदेश को अनिवार्य न बनाया जाए और इसे सिर्फ एक आमंत्रण में रहने दिया जाए, ताकि शिक्षक अपनी इच्छानुसार शपथ ग्रहण में शामिल हो सकें।

 

यह पढ़ें….पीएम मोदी के स्वागत के लिए काशी तैयार, 45 जगहों पर बनाये गए वेलकम प्वाइंट

इस बीच, आम आदमी पार्टी ने शनिवार को कहा कि दिल्ली शिक्षा निदेशालय(डिओई) ने रामलीला मैदान में रविवार को होने वाले अरविंद केजरीवाल और उनकी कैबिनेट के शपथग्रहण समारोह में स्कूलों के शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों को निमंत्रण दिया है। पार्टी ने कहा कि शिक्षक बीते 5 वर्षो में दिल्ली के कायाकल्प के ध्वजवाहक रहे हैं। बीजेपी ने हालांकि इसकी तीखी आलोचना की है और इसे दिल्ली सरकार का ‘तुगलकी फरमान’ करार दिया।

डीओई के सर्कुलर के अनुसार, स्कूलों के प्रधानाचार्यों,  उप प्रधानाचार्यो, इंटरप्रेनरशिप माइंडसेट करिकुलम कोर्डिनेटर्स, हैप्पीनेस कोर्डिनेटर्स और शिक्षक विकास समन्वयक समेत 20 अन्य लोगों को लाने के लिए कहा गया है। बीजेपी नेता और नवनिर्वाचित विधायक विजेन्द्र गुप्ता ने इसे ‘तुगलकी फरमान’ बताया और इस आदेश को वापस लेने के लिए शनिवार को अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखा।

विजेंद्र गुप्ता ने पत्र में केजरीवाल को शिक्षकों और अधिकारियों को जारी किए गए तुगलकी फरमान को वापस लेने के लिए कहा और इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राजनीतिक लाभ प्राप्त करने के लिए यह सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग है।

 

यह पढ़ें….दर-दर भटक रहा गरीब: मोदी सरकार की योजना का नहीं मिला लाभ, दु:खद है कहानी

विजेंद्र गुप्ता ने कहा, ‘इस आदेश की वजह से 15,000 टीचरों और अधिकारियों को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होना होगा।’ रोहिणी विधानसभा क्षेत्र से फिर निर्वाचित हुए विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि वह रविवार को रामलीला मैदान में केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे।

दिल्ली डायलॉग ऐंड डिवेलपमेंट कमिशन के उपाध्यक्ष जस्मीन शाह ने कहा कि शिक्षक और प्राचार्य पिछले 5 सालों में दिल्ली के बदलाव के ‘शिल्पी’ हैं और वे शपथ ग्रहण समारोह में ‘आमंत्रित किए जाने के हकदार’ हैं।

जस्मीन शाह ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी ने अपने विकास मॉडल में शिक्षकों को केंद्र में रखकर अंतिम बार कब सोचा था? न पहले कभी सोचा था, न आगे कभी सोचेंगे।’ आम आदमी पार्टी ने दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों में 62 सीटें जीतकर सत्ता में जबरदस्त वापसी की है। केजरीवाल और उनके मंत्री रविवार को एक भव्य समारोह में शपथ लेंगे।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App