Top

अर्जुन करेगा खात्मा: दुश्मन होंगे भस्म, ऐसी उपलब्धि मिली है भारत को

लद्दाख पर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल(LAC) पर चल रही तनातनी के बीच भारत एक के बाद एक विराट उपलब्धि हासिल करता जा रहा है। जीं हां खुशी की बात ये है कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) को एक और बड़ी सफलता मिली है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 23 Sep 2020 9:40 AM GMT

अर्जुन करेगा खात्मा: दुश्मन होंगे भस्म, ऐसी उपलब्धि मिली है भारत को
X
लद्दाख पर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल(LAC) पर चल रही तनातनी के बीच भारत एक के बाद एक विराट उपलब्धि हासिल करता जा रहा है। जीं हां खुशी की बात ये है कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) को एक और बड़ी सफलता मिली है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। लद्दाख पर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल(LAC) पर चल रही तनातनी के बीच भारत एक के बाद एक विराट उपलब्धि हासिल करता जा रहा है। जीं हां खुशी की बात ये है कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) को एक और बड़ी सफलता मिली है। देश में एमबीटी अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (ATGM) का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया गया है। इन विपरीत हालातों में देश के हाथों लगी ये सफलता वाकई में काफी अहम है।

ये भी पढ़ें... सीएम से मिले राकेश टिकैतः किसानों की समस्याओं पर कहीं ये बातें

देश को बेहतरीन उपलब्धि

देश को मिली इस सफलता पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अहमदनगर में केके रेंज (एसीसी एंड एस) में एमबीटी अर्जुन से लेजर गाइडेड एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) को बधाई। भारत को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) पर गर्व है, जो निकट भविष्य में आयात निर्भरता को कम करने की दिशा में काम कर रहा है।

बता दें, डिफेंस रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ने बीते मंगलवार को दो बेहद खास टेस्‍ट किए। इसमें पहले तो ABHYAS का सफल फ्लाइट टेस्‍ट हुआ। फिर MBT अर्जुन टैंक से लेजर-गाइडेड ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (AGTM) का टेस्‍ट फायर किया गया।

ये भी पढ़ें...एक बूंद कोरोना खत्म: भारत को वैक्सीन से बड़ी कामयाबी, दाम कम और जल्द इलाज

फिर मिसाइल ने 3 किलोमीटर दूर टारगेट पर एकदम सटीक वार किया और उसे ध्‍वस्‍त कर दिया। AGTM का टेस्‍ट अहमदनगर के आर्मर्ड कॉर्प्‍स सेंटर ऐंड स्‍कूल (ACC&S) की केके रेंज में हुआ। इस बेहतरीन उपलब्धि पर देश के

Defense Minister

  

ने DRDO की पूरी टीम को बधाई दी है।



बता दें, ये मिसाइल डिफेंस रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) की आर्मामेंट रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट इस्‍टैब्लिशमेंट (ARDE) के कैनन लॉन्‍ड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत बनाई गई है। फिलहाल इसे अर्जुन टैंक से लॉन्‍च किया गया है।

ये भी पढ़ें...संसद में स्वास्थ्य मंत्रालय का जवाब- देश में प्रति दस लाख लोगों पर 875 कोरोना टेस्ट

ATGM की खूबी

जिसकी कामयाबी से देश को इतनी बड़ी उपलब्धि मिली है, उसके बारे में हम आपको पूरी जानकारी देते हैं।

1.ATGM को कई प्‍लैटफॉर्म से लॉन्‍च किया जा सकता है। टेस्‍ट के लिए 'अर्जुन' टैंक का इस्‍तेमाल हुआ है।

2.हीट (हाई स्‍पीड एक्‍सपेंडेबल एरियल टारगेट) वारहेड के तहत एक्‍सप्‍लोसिव रिऐक्टिव आर्मर (ERA) प्रोटेक्‍टेड वेहिकल्‍स को उड़ाती है।

3. इसके अलावा ये मिसाइल मॉडर्न टैंक्‍स से लेकर भविष्‍य के टैंक्‍स को भी पूरी तरह से खत्म करने में सक्षम होगी।

4. इस मिसाइल का हेड इस तरह है जो इसे मूविंग टारगेट को एंगेज करने की क्षमता देता है।

5. सफलता के ATGM के जरिए कम ऊंचाई पर उड़ने वाले हेलिकॉप्‍टर्स को भी धड़ाम किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें...अनुराग ने किया लड़के को मोलेस्ट: निर्देशक ने कबूला सच, कंगना ने शेयर किया वीडियो

Newstrack

Newstrack

Next Story