कांपा दुश्मन देश: सुपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण, युद्ध में इस तरह देगी साथ

DRDO ने आज SMART के सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। जिस पर राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को बधाई दी है।

RAJNATH SINGH

राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को बधाई दी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत ने रक्षा क्षेत्र में एक और सफलता हासिल की है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (Defence Research and Development Organisation- DRDO) ने आज यानी सोमवार को टॉरपीडो, SMART के सुपरसोनिक मिसाइल (Supersonic Missile) असिस्टेड रिलीज का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। यह पनडुब्बी रोधी युद्ध (Anti-Submarine Warfare) में स्टैंड-ऑफ क्षमता के लिए एक प्रमुख प्रौद्योगिकी सफलता होगी। वहीं इस मौके पर केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने कहा कि इस उपलब्धि के लिए मैं DRDO और अन्य टीम को बधाई देता हूं।

यह भी पढ़ें: प्राचीन पवित्र छड़ी ने की जागेश्वर धाम में पूजा अर्चना, अब पहुंचे नैना देवी मंदिर

रक्षा मंत्रालय ने ट्वीट कर दी जानकारी

वहीं इस मामले में रक्षा मंत्रालय की ओर से ट्वीट करते हुए कहा गया कि टारपीडो (SMART) के सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज को ओडिशा के तट से दूर व्हीलर द्वीप से सोमवार सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर सफलतापूर्ण परीक्षण (Successful Tested) किया गया है। यह प्रक्षेपण पनडुब्बी रोधी युद्ध (Anti-Submarine Warfare) क्षमता स्थापित करने में महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें: आतंकी धमाके से हिला देश: 8 लोगों के उड़ गए चीथड़े, गवर्नर को बनाया निशाना

युद्ध के समय बढ़ाएगी विरोधी पनडुब्बियों को मार गिराने की क्षमता

सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज का ये परीक्षण ओडिशा के व्हिलर आईलैंड पर किया गया। बता दें कि यह ट्रैकिंग स्टेशन (रडार, इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सिस्टम) तट और टेलीमेट्री स्टेशनों के अलावा नीचे के जहाजों सहित सभी चीजों की निगरानी कर सकती है। रक्षा मंत्री ने कहा कि ये तकनीक युद्ध के समय विरोधी पनडुब्बियों को मार गिराने की हमारी क्षमता बढ़ाएगी।

यह भी पढ़ें: यूपी से बड़ी खबर: अब लगे यहां राष्ट्रपति शासन, सुप्रीम कोर्ट में लगाई गई गुहार

लड़ाकू जहाजों पर किया जाएगा तैनात

बता दें कि परीक्षण के दौरान इसकी रेंज, एल्टीट्यूड, टॉरपीडो को छोड़ने की क्षमता और VRM पर स्थापित करने की क्षमता ने पूरी तरह से सही काम किया, इसी लिए रक्षा मंत्रालय की ओर से इसे सफल परीक्षण करार दिया गया है। स्मार्ट मिसाइल मुख्त रूप से Torpedo सिस्टम का हल्का रूप है, जिसे लड़ाकू जहाजों पर तैनात किया जाएगा। बताते चलें कि इसे तैयार करने के लिए हैदराबाद, विशाखापट्टनम समेत अन्य शहरों में मौजूद DRDO की लैब में काम किया गया है।

यह भी पढ़ें: हाथरस पर फंसे BJP विधायक: अब हो रहे जमकर ट्रोल, राहुल को दी राष्ट्रवाद की नसीहत

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App