Top

चुनाव में सोशल मीडियाः आयोग की गाइडलाइन में बड़े बदलाव, लग सकती है ये रोक

इस बार चुनाव आयोग सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया के लिए क्या कड़े कदम उठाता है। क्योंकि अभी दो दिन पहले ही सरकार ने सोशल मीडिया पर लगाम लगाने के लिए गाइड लाइन जारी की है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 26 Feb 2021 5:12 PM GMT

चुनाव में सोशल मीडियाः आयोग की गाइडलाइन में बड़े बदलाव, लग सकती है ये रोक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रामकृष्ण वाजपेयी

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव का कार्यक्रम जारी होने के साथ अब सबकी निगाहें इस बात पर लग गई हैं कि इस बार चुनाव आयोग सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया के लिए क्या कड़े कदम उठाता है। क्योंकि अभी दो दिन पहले ही सरकार ने सोशल मीडिया पर लगाम लगाने के लिए गाइड लाइन जारी की है। अब निष्पक्ष और भय रहित चुनाव सम्पन्न कराने के लिए चुनाव आयोग की बारी है।

चुनाव में सोशल मीडिया के लिए गाइडलाईन

अगर पिछले चुनावों की बात करें तो 2014 के आम चुनाव, 2017 के कई राज्यों के विधानसभा चुनाव और 2019 के आम चुनाव में चुनाव आयोग की सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया पर कड़ी नजर रही है।

जानकारों की मानें तो इस बार भी चुनाव आयोग फेसबुक सहित तमाम सोशल वेबसाइटों के लिए जरिये होने वाले प्रचार पर सख्ती बरतने की तैयारी में है।

ये भी पढ़ें- ऑनलाइन नामांकनः चुनाव में प्रत्याशियों को मिलेंगी ये सुविधाएं, नहीं जाना पड़ेगा बैंक

सोशल मीडिया पर चुनाव प्रचार के लिए आयोग की मंजूरी लेना हो सकता है जरूरी

संभावना जतायी जा रही है कि सोशल मीडिया की बढ़ती पहुंच को देखते हुए इस पर चुनाव प्रचार के लिए राजनीतिक दलों को आयोग की मंजूरी लेना जरूरी किया जा सकता है।

election

आयोग कह सकता है कि सभी पार्टियों और उम्मीद्वारों को चुनाव प्रचार से जुड़ा कोई भी कंटेंट सोशल मीडिया पर अपलोड करने से पहले आयोग की इजाजत लेनी होगी।

ये भी पढ़ेँ- चुनाव के एलान से पहले ममता का बड़ा दांव, मजदूरों को दी ये बड़ी सौगात

इसके अलावा अगर पार्टियां या उम्मीद्वार बिना इजाजत के कंटेंट सोशल मीडिया साइट्स पर अपलोड करते हैं तो आयोग के निर्देश पर सोशल वेबसाइट ऐसी सामग्रियों को हटाने पर बाध्य किया जा सकता है।

आयोग हर पार्टी और उम्मीद्वार को यह बताना अनिवार्य कर सकता है कि सोशल मीडिया पर डाले गए कंटेंट पर कितने खर्च हुए हैं।

फेसबुक या व्हाट्सएप के ग्रुप पर प्रचार-प्रसार पर रोक भी संभव

संभावना इस बात की भी है कि आयोग सोशल मीडिया से जुड़े फेसबुक या व्हाट्सएप के किसी भी ग्रुप में प्रत्याशियों के प्रचार-प्रसार पर पूरी तरह रोक लगा दे और यदि कोई प्रत्याशी या उसका समर्थक ऐसा करे तो उसके साथ ही ग्रुप के एडमिन को भी जेल जाना पड़ सकता है।

इस संबंध में चुनाव आयोग पुलिस अधीक्षकों को फेसबुक या व्हाट्सएप ग्रुप में चुनाव के मुद्दे पर किसी भी वाद-विवाद और चर्चा, बहस की मॉनिटरिंग के बाद संबंधित निर्देश जारी कर सकता है। ताकि ऐसी स्थिति में ये अधिकारी आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करके कानूनी कार्रवाही कर सकें।

देना पड़ सकता है सोशल मीडिया अकाउंट्स का ब्योरा

आयोग यह कह सकता है कि सभी उम्मीदवारों को अपना नामांकन दाखिल करते वक्त अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स का ब्योरा चुनाव आयोग को सौंपना होगा।

आयोग ने गूगल, फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब से राजनीतिक दलों से मिलने वाले विज्ञापनों का वेरिफिकेशन करने को भी कह सकता है। इस तरह से चुनाव आयोग किसी भी तरह के दुष्प्रचार या प्रोपेगंडा पर रोक लगा सकता है।

ये भी पढ़ेँ- बंगाल चुनाव 8 चरणों में क्यों: पता चल गयी वजह, TMC नेता ने किया खुलासा

आयोग सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर जारी विज्ञापनों के खर्च को उम्मीदवारों के कुल खर्च में जोड़ने के आदेश भी दे सकता है। इसके अलावा इन प्लेटफॉर्म्स पर जारी विज्ञापनों से जुड़ी शिकायतों की सुनवाई के लिए एक अधिकारी भी नियुक्त कर सकता है।

चुनाव आयोग ने चूंकि पिछले चुनाव में इस तरह के कदम उठाए थे। इसलिए संभावना यही जताई जा रही है कि इस बार सख्ती कुछ ज्यादा ही बरती जा सकती है क्योंकि कोरोना के चलते सभी दलों का जोर सोशल मीडिया साइट्स के जरिये चुनाव प्रचार पर केंद्रित रहेगा।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story