कनाडा के PM ट्रूडो की टिप्पणी के बाद भारत ने उठाया बड़ा कदम, हर तरफ हो रही चर्चा

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने शुक्रवार को भारत में किसान आंदोलन पर अपनी स्थिति दोहराई। उन्होंने कहा, “कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण विरोध और मानवाधिकारों के अधिकार के लिए खड़ा रहेगा।”

India and Kanada

कनाडा के PM ट्रूडो की टिप्पणी के बाद भारत ने उठाया बड़ा कदम, हर तरफ हो रही चर्चा (फोटो : सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: देश के आन्तरिक मामलों पर (किसान आन्दोलन) कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के टिप्पणी करने के बाद भारत ने कड़ा तेवर अपनाया है।

भारत की तरफ से किसान आंदोलन को लेकर कनाडा के प्रधानमंत्री के बयान पर पहले ही नाराजगी जाहिर की जा चुकी है। जिसके बाद से अब भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कोरोना वायरस से निपटने को लेकर कनाडा के साथ होने वाली एक बैठक में नहीं जाने का फैसला किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत ने कनाडा के प्रधानमंत्री तक अपना संदेश भी पहुंचा दिया कि भारतीय विदेश मंत्री 7 दिसंबर को होने वाली बैठक में शामिल नहीं हो पाएंगे।

उधर कनाडा में जस्टिन ट्रूडो की टिप्पणी के बाद भारत विरोधी रैलियां शुरू हो गई हैं। इस बारें में भारत की तरफ से पहले ही चेतावनी दी गई थी कि किसान आंदोलन पर कनाडा के नेतृत्व की टिप्पणी से वहां भारत विरोधी रैलियों में वृद्धि होगी।

farmer
किसान आन्दोलन (फोटो: सोशल मीडिया)

वैक्सीन लेने के बाद भी कोरोना संक्रमित हुए अनिल विज, विशेषज्ञ ने बताई वजह

कनाडा में भारत के खिलाफ प्रदर्शन

कनाडा में भारत के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन, रैलियों और मार्च का आयोजन करने की बात सामने आई है।
नई दिल्ली में कनाडाई उच्चायुक्त नादिर पटेल को शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने तलब किया और कड़ा संदेश दिया। भारत ने कहा कि कनाडा के पीएम की टिप्पणी से दोनों देशों के संबंधों पर असर पड़ सकता है।

विदेश मंत्रालय ने जारी बयान में बताया कि प्रधानमंत्री ट्रूडो की इस तरह की टिप्पणियों ने कनाडा में भारतीय मिशन के बाहर अतिवादी गतिविधियों को “प्रोत्साहित” किया है।

बैठक में सरकार से ये मांग करेंगे किसान, कहा- इससे कम पर नहीं होगी बात

farmer protest
किसान आन्दोलन (फोटो: सोशल मीडिया)

क्या कहा था कनाडा के प्रधानमंत्री ने

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने शुक्रवार को भारत में किसान आंदोलन पर अपनी स्थिति दोहराई। भारत के बारे में यह पूछे जाने पर कि उनकी टिप्पणी दोनों देशों के संबंधों को प्रभावित कर सकती है। उन्होंने कहा, “कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण विरोध और मानवाधिकारों के अधिकार के लिए खड़ा रहेगा।”

ठण्ड के सीजन में गर्मी ने तोड़ा 17 साल का रिकॉर्ड, यहां तापमान 33 डिग्री के पार

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App