किसानों ने ठुकराया सरकार का प्रस्ताव, जारी है किसान आंदोलन, अब बढ़ाई गई सुरक्षा

कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध कर रहे किसानों ने केंद्र सरकार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। किसान नेता बूटा सिंह ने कहा कि यह आंदोलन को ठंडा करने की कोशिश है। 

delhi police

किसान आंदोलन (photo Social media)

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों (New Farms Law) के खिलाफ अभी भी किसानों का प्रदर्शन (Farmers Protest) जारी है। हाल ही में किसान नेता और सरकार के बीच कृषि कानूनों को लेकर बातचीत हुई, लेकिन बैठक के बाद भी कोई नतीजा नहीं निकल सका है। वहीं बातचीत फेल होने के बाद किसानों ने आक्रामक रूख अख्तियार कर लिया है। किसानों ने एक बार फिर से सरकार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। बता दें कि इस प्रस्ताव में सरकार ने कमेटी बनाने की बात कही थी।

सरकार का प्रस्ताव आंदोलन को ठंडा करने की कोशिश

वहीं अब पंजाब और हरियाणा से बड़ी तादाद में किसान दिल्ली की तरफ बढ़ रहे हैं, ताकि राजधानी में मौजूद किसानों का साथ दे सके। दूसरी ओर सरकार भी एक्टिव हो गई है। मीटिंग फेल होने के बाद किसानों ने कड़ा रूख अपना लिया है। वहीं प्रस्ताव को ठुकराने के बारे में बताते हुए किसान नेता बूटा सिंह ने कहा कि हमने सरकार के कमेटी बनाने के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। यह आंदोलन को ठंडा करने की कोशिश है। किसान अब शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अपनी राय रखेंगे।

यह भी पढ़ें: तरसे लालू प्रसाद यादव: नहीं मिल रही बिहार के लाल को धूप, सता रही याद

farmer protest
(फोटो- सोशल मीडिया)

अभी सरकार से बातचीत नहीं टूटी

वहीं किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी का कहना है कि कल जो बैठक हुई थी, उसमें कोई नतीजा नहीं निकल सका। सरकार ने जो कमेटी बनाने की बात कही थी, उस पर इनकार कर दिया गया है। क्योंकि कमेटी बनाने का मतलब होता है आंदोलन को टरका देना। इसलिए सभी ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। हालांकि किसान नेता ने कहा कि अभी सरकार से बातचीत टूटी नहीं है। बता दें कि केंद्र सरकार ने प्रस्ताव दिया था कि एक कमेटी बनाई जाएगी, जिसमें सरकार के प्रतिनिधि, किसानों के प्रतिनिधि और अन्य लोग शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें: इनकी याद में बनाया गया गेटवे ऑफ इंडिया, जानिए इसका इतिहास

kisan andolan
(फोटो- सोशल मीडिया)

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर हुई बैठक

वहीं सरकार के बाद बातचीत फेल होने के बाद किसानों का आंदोलन जारी है। बड़ी संख्या में किसान सिंधु और टिकरी बॉर्डर पर किसान सुबह से ही डटे हैं। वहीं इस बीच सरकार भी एक्टिव हो गई है। बुधवार सुबह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर बैठक हुई। जिसमें केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल भी मौजूद रहे। इस बैठक में तीन दिसंबर को होने वाली किसानों के साथ चर्चा पर मंथन हुआ।

दिल्ली एनसीआर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

वहीं किसानों के आंदोलन को देखते हुए आज यानी बुधवार को दिल्ली एनसीआर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। सिंधु बॉर्डर समेत अन्य सीमाओं पर हर वाहन की जांच की जा रही है। इसके अलावा किसानों के आंदोलन के चलते नोएडा लिंक रोड पर स्थित चिल्ला बॉर्डर को बंद कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: कंगना से भिड़ी दादी: दिया ऐसा करारा जवाब, अब छा गईं सोशल मीडिया पर

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App