टैक्सपेयर्स के लिए खुशखबरी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कही बड़ी बात

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने करदताओं को बड़ी खुशखबरी दी है। वित्त मंत्री ने शुक्रवार को कहा कि करदाता राष्ट्र निर्माता है और सरकार उनके लिए एक चार्टर ऑफ राइट्स लाएगी।

Finance Minister Nirmala Sitharaman

Finance Minister Nirmala Sitharaman

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने करदताओं को बड़ी खुशखबरी दी है। वित्त मंत्री ने शुक्रवार को कहा कि करदाता राष्ट्र निर्माता है और सरकार उनके लिए एक चार्टर ऑफ राइट्स लाएगी। उन्होंने बताया कि सरकार ने ईमानदार करदाताओं की सुविधा के लिए कई कदम उठाए हैं।

निर्मला सीतारण ने कहा कि प्रक्रिया को आसान बनाया गया है, पारदर्शिता बढ़ाई गई है और कर की दरों को सुसंगत बनाया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि मुझे खुशी है कि मैं उस सरकार का हिस्सा हूं जिसकी अगुआई एक ऐसा प्रधानमंत्री कर रहा है जो ईमानदारी से यह बात सोचता है कि भारतीय करदाताओं को बेहतर सुविधाएं दी जानी चाहिए। हमने भारतीय करदाताओं को चार्टर ऑफ राइट्स देने की घोषणा की है।

सीतारमण ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि दुनिया में कुछ ही देश हैं जहां करदाताओं के लिए चार्टर ऑफ राइट्स है। इनमें ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इसमें करदाताओं के दायित्व और अधिकारों का उल्लेख होगा। हम इसके लिए प्रयास कर रहे हैं।

Income Tax
इनकम टैक्स

यह भी पढ़ें…भारत जंग के लिए तैयार! सेना प्रमुख नरवणे का निर्देश, फील्ड कमांडर्स से कही ये बात

वित्त मंत्री ने कहा कि हमने आत्मनिर्भर अभियान के हिस्से के तौर पर इसकी घोषणा की थी। हम करदाताओं को चार्टर ऑफ राइट्स देने के लिए बेकरार हैं। बजट में टैक्सपेयर्स चार्टर की घोषणा की गई थी। माना जा रहा है कि इसका वैधानिक दर्जा होगा और यह नागरिकों को अधिकार देगा।

यह भी पढ़ें…शिक्षा नीति क्या मील का पत्थर साबित होगी? एक मौजूं सवाल

‘करदाताओं को राष्ट्र निर्माता कहते हैं PM’

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करदाताओं को राष्ट्र निर्माता कहते हैं और उनका कहना है कि एक ईमानदार करदाता देश के निर्माण में मदद करता है। वे सरकार को सोशल वेलफेयर प्रोग्राम चलाने में मदद करते हैं जो देश के गरीबों के लिए बेहद अहम है।

यह भी पढ़ें…नियम तोड़ने वालों पर योगी सरकार सख्त, इसलिए 3 लाख से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज

वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने साफ कर दिया है कि करदाताओं के लिए देश में कर व्यवस्था को सरल बनाना होगा। इसके लिए सरकार ने फेसलेस एसेसमेंट की सुविधा शुरू की है, स्क्रूटिनी को कम किया है और कई अन्य सुविधाएं शुरू की हैं। वित्त मंत्री ने बताया कि सितंबर 2019 में हमने कॉरपोरेट टैक्स को कम करने का अहम फैसला लिया था। तब भी और अब भी भारत उन देशों में है जहां कर की दरें कम हैं और कॉरपोरेट कर की व्यवस्था को भी सरल बनाया गया है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App