इस फार्मा कंपनी के 10 लोग कोरोना पॉजिटिव: बंद प्लांट, क्वॉरंटीन में हजारों कर्मचारी

देशभर में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। जिसकी रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास भी किये जा रहे हैं। इसी बीच कर्नाटक में पेशेंट 52 कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे महकमे में हडकंप मच गया…

Published by Ashiki Patel Published: April 1, 2020 | 9:20 am
Modified: April 1, 2020 | 9:25 am

बेंगलुरु: देशभर में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। जिसकी रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास भी किये जा रहे हैं। इसी बीच कर्नाटक में पेशेंट 52 (नाम न उजागर करने के चलते दी गई पहचान) कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे महकमे में हडकंप मच गया। इस घटना ने प्रशासन को हैरान कर दिया है क्योंकि इस मरीज ने न तो कोई विदेश यात्रा की थी और न ही ये किसी संक्रमित मरीज या उसके किसी करीबी के संपर्क में आया था। भारत में यह में कोरोना वायरस के कलस्टर आउटब्रेक का यह पहला मामला है।

ये भी पढ़ें: तबलीगी जमात के मुद्दे पर छिड़ी सियासी जंग, सोशल मीडिया बना बड़ा अखाड़ा

क्या होता है क्लस्टर आउटब्रेक?

क्लस्टर आउटब्रेक ऐसी अवस्था को कहते हैं, जहां एक पूरा समूह अचानक से किसी बीमारी की चपेट में आ जाता है।

ये भी पढ़ें: कोरोना का असरः थमी वाहनों की रफ्तार, बेकारी को मजबूर चालक-क्लीनर

बता दें कि पी52 यानी पेशेंट 52 मैसूर के नंजनगुड प्लांट के जुबिलेंट लाइफ साइंस में काम करते हैं। ये कंपनी इस प्लांट में एपीआई और एक्टिव फार्मा इंग्रीडिएंट्स बनाती है और ये कर्मचारी क्वालिटी एश्योरेंट टीम काम करते हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 26 मार्च को संक्रमित पाए जाने के बाद, इस मरीज के सात करीबी लोगों को जांच के बाद होम क्वारंटीन में भेज दिया गया है।

इस तरह बढ़ी मरीजों की संख्या

बीते 29 मार्च को कंपनी के पांच अन्य कर्मचारी संक्रमित पाए गए। फिर 30 मार्च को चार और लोग संक्रमित पाए गए। वहीँ पी52 से ही जुड़े 2 नए केस 31 मार्च को सामने आए। इन नए मामलों में जांच से पता चला कि संक्रमित लोगों ने दुबई की यात्रा की थी। कंपनी ने इसके बाद से ही अपने प्लांट की सारी गतिविधियां रोक दीं और करीब 1,000 से ज्यादा लोगों को सेल्फ क्वॉरंटीन के लिए भेज दिया। जिसके बाद फार्मा कंपनी ने कहा कि उनके कई सारे कर्मचारियों को संक्रमण हुआ है और सभी जरूरी एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं। इसके साथ ही साथ प्लांट के पूरे इलाके को सैनिटाइज किया जा रहा है। एहतियात के तौर पर फिलहाल प्लांट में काम पूरी तरह से रोक दिया गया है औ सभी लोगों को सेल्फ क्वारंटीन में भेज दिया गया है।

ये भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच नया वित्त वर्ष: आज से लागू होंगे 6 नए नियम, जानिए …