भारत-चीन सीमा विवाद: चीन को ललकारा विदेश मंत्री ने, दी ये कड़ी चेतावनी

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि गलवान में जो कुछ भी हुआ वो चीन की प्लानिंग थी। चीन ने जमीनी हालात को बदलने की साजिश की। उसकी मंशा तथ्यों को बदलने की है। एस जयशंकर ने ये बातें बुधवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी से फोन पर हुई बातचीत में कही।

Published by SK Gautam Published: June 17, 2020 | 7:30 pm
Modified: June 17, 2020 | 7:38 pm

लखनऊ: भारत-चीन सीमा पर वास्तविक रेखा LAC पर सोमवार रात को हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए सैनिकों की घटना ने देश को झकझोर दिया है। इस पर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि गलवान में जो कुछ भी हुआ वो चीन की प्लानिंग थी। चीन ने जमीनी हालात को बदलने की साजिश की। उसकी मंशा तथ्यों को बदलने की है। एस जयशंकर ने ये बातें बुधवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी से फोन पर हुई बातचीत में कही।

द्विपक्षीय संबंधों पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा- विदेश मंत्री एस जयशंकर

एस जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी से कहा कि गलवान में जो कुछ भी हुआ, उसे चीन ने काफी सोची-समझी और पूर्वनियोजित रणनीति के तहत अंजाम दिया है। इसलिए, भविष्य की घटनाओं की जिम्मेदारी उसी पर होगी। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि इस घटना का द्विपक्षीय संबंधों पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा।

भारतीय सैनिकों ने तोड़ा नियम- चीनी विदेश मंत्री वांग यी

इस बातचीत में चीन के विदेश मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि मतभेदों से उबरने के लिए दोनों पक्षों को मौजूदा तंत्रों के जरिए बातचीत और समन्वय का रास्ता और दुरुस्त करना चाहिए। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि 15 जून की शाम को दोनों मोर्चे के बीच सैन्य-स्तर की बैठक में जो सर्वसम्मति बनी थी उसको भारतीय सैनिकों ने तोड़ दिया।

ये भी देखें: प्रेम प्रसंग में विवाहिता ने लगाई फांसी, ये है पूरा मामला

उन्होंने कहा कि गलवान घाटी में स्थिति सामान्य होने पर भारतीय सैनिकों ने LAC को पार किया और हमारे सैनिकों को उकसाया। वांग यी ने कहा कि भारतीय सेना ने सीमा मुद्दे पर दोनों देशों के बीच समझौते का उल्लंघन किया। उन्होंने भारत से इस घटना की जांच करने की मांग की है। और कहा कि जो भी इसके लिए जिम्मेदार है उसको सजा दी जाए। जिससे आगे ऐसी कोई घटना न हो।

ये है पूरा मामला

गौरतलब है कि 15 जून की रात लद्दाख की गलवान घाटी में LAC पर चीन और भारत की सेना में हिंसक झड़प हुई थी। इस हिंसा में भारत के 20 जवान शहीद हो गए हैं। जानकारी ये भी है कि चीन के करीब 40 जवान हताहत हुए हैं, लेकिन चीन ने अब आधिकारिक तौर पर कोई संख्या नहीं बताई है। साथ ही चीन ने भारत पर ही कार्रवाई का आरोप लगाया है। जबकि भारत ने साफ तौर पर कहा है कि ये पूरी घटना चीन की हिमाकत का नतीजा है।

ये भी देखें: पुलिस की सुपरबाइक: जबरदस्त है रफ़्तार, चंद सेकंड में धर दबोचेगी अपराधियों को

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App