नहीं रहे पूर्व मुख्यमंत्री: शोक में डूबी पार्टी, अस्पताल में तोड़ा दम

देश के लिए बड़े दुख की खबर है, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार को निधन हो गया। बीते कई दिनों से इनकी तबीयत खराब चल रही थी। पूर्व सीएम अजीत जोगी को 9 मई को दिल का दौरा पड़ने के बाद से हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

नहीं रहे पूर्व मुख्यमंत्री: शोक में डूबी पार्टी, अस्पताल में तोड़ा दम

नई दिल्ली: देश के लिए बड़े दुख की खबर है, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार को निधन हो गया। बीते कई दिनों से इनकी तबीयत खराब चल रही थी। पूर्व सीएम अजीत जोगी को 9 मई को दिल का दौरा पड़ने के बाद से हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। ये रायपुर के अस्पताल में भर्ती कराए गए थे। सीएम अजीत जोगी के निधन की खबर उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी है।

ये भी पढें…मजबूर मजदूर से बोले अधिकारी- नहीं मिल रहा खाना तो कूद जाओ ट्रेन से…

छत्तीसगढ़ का दुलारा,हमसे बहुत दूर चला गया

अजीत जोगी के बेटे ने लिखा कि 20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया है। केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने नेता नहीं,अपना पिता खोया है।

अजीत जोगी ढाई करोड़ लोगों के अपने परिवार को छोड़कर, ईश्वर के पास चले गए। गांव-गरीब का सहारा, छत्तीसगढ़ का दुलारा,हमसे बहुत दूर चला गया।

डाॅक्टरों की टीम उन पर नजर रख रही थी

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की 9 मई शनिवार को अचानक तबियत बिगड़ने की वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी। उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने के बाद रायपुर के श्री नारायण हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

ये भी पढें…चीन को लगेगा तगड़ा झटका: अब भारत में अपनी इंडस्ट्री शिफ्ट करेगा अमेरिका

अस्पताल के डॉक्टरों ने कहा कि उनकी हालत नाजुक है। अजीत जोगी का हेल्थ बुलेटिन अस्पताल प्रशासन ने जारी कर दिया था।

उस समय अस्पताल प्रशासन द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन में कहा गया था, कि अजीत जोगी की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है। आने वाले 48 से 72 घंटे उनके लिए बेहद अहम हैं। डाॅक्टरों की टीम उन पर नजर रख रही है।

बता दें, 74 साल के अजीत जोगी के सांस नली में सुबह इमली खाते हुए बीज फंस गया था, जिसकी वजह से घर पर ही पहले उन्हें रेस्पीरेट्री अरेस्ट आ गया, फिर कार्डियक अरेस्ट हुआ था। अस्पताल के डॉक्टरों ने ऑपरेट कर बीज सांस नली से निकाल दिया था। लेकिन इसके बाद भी इनकी हालत में सुधार नहीं आया था।

ये भी पढें…सड़क पर 15 लाख लोग: नम-नम आंखों से झलकते रहे आंसू, कभी ना देखी ऐसी भीड़