महराष्ट्र: सरकार के गठन का फार्मूला तैयार, कल ऐलान संभव

बैठक के बाद कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि सूबे में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस और एनसीपी के बीच सभी मुद्दों पर सहमति बन गई है।

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर कई दिनों से चल रहा असमंजस का दौर अब पूरी तरह खत्म होने को है।  शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने पर कांग्रेस वर्किग कमेटी ने भी मंजूरी दे दी है। कांग्रेस-एनसीपी ने फार्मूला भी   तैयार कर लिया है।

बताया जा रहा है कि शुक्रवार को महाराष्ट्र में एक बार कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना नेताओं के बीच बैठक होगी और उसके बाद सरकार गठन की घोषणा भी कर दी जाएगी। इस बीच मिलकर सरकार बनाने वाली पार्टियों यह कोशिश है कि नवंबर में ही नई सरकार का शपथ ग्रहण हो जाए।

ये भी देखें : हत्या, लूट और डकैती इस प्रदेश की पहचान बन गई है: अजय कुमार लल्लू

मातोश्री में कल होगी शिवसेना की बैठक

अब महाराष्ट्र में दोनों पार्टियां शिवसेना से सरकार गठन को लेकर चर्चा करेंगी। इसके बाद महाराष्ट्र में नई सरकार गठन का अंतिम ऐलान किया जाएगा। सूत्रों का कहना है कि शिवसेना से बैकचैनल से बातचीत पूरी हो गई है और शुक्रवार को सरकार गठन के फैसले का ऐलान हो सकता है।

बता दें कि महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर मातोश्री में कल शिवसेना की बैठक होगी। जिसको शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे संबोधित करेंगे।

ये भी देखें : रेलवे का बड़ा ऐलान! सरकार ने किया ये फैसला, आप भी जान लें

गुरुवार रात को शरद पवार के घर पर कांग्रेस और एनसीपी नेताओं की फिर बैठक होनी है। इसके बाद शुक्रवार को मुंबई में शिवसेना के साथ कांग्रेस और एनसीपी की मीटिंग होनी है।

दिल्ली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर गुरुवार सुबह हुई सीडब्ल्यूसी की बैठक में महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात पर चर्चा हुई। बैठक के बाद पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि इस बैठक में कांग्रेस-एनसीपी की बैठक के बारे में जानकारी दी गई है और शुक्रवार तक कोई फैसला होने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि हमने सीडब्लूसी सदस्यों को महाराष्ट्र की ताजा राजनीतिक स्थिति के बारे में जानकारी दी। आज भी कांग्रेस और एनसीपी के बीच बातचीत होगी। मैं समझता हूं कि कल मुंबई में संभवतः हम किसी नतीजे पर पहुंच सकते हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीडब्ल्यूसी में शिवसेना के साथ सरकार गठन के लिए आगे बढ़ने को लेकर आम सहमति बन गई है।

ये भी देखें : हर रोज करते हैं पूजा-पाठ, फिर भी नहीं रहता मन शांत तो ये उपाय आजमाएं आप

इस बैठक में कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के बारे में बताया गया है जिसको सोनिया गांधी की तरफ से हरी झंडी मिल गई है। वहीं खबर ये भी है कि राज्य में शिवसेना का मुख्यमंत्री पूरे 5 साल के लिए होगा जबकि एनसीपी और कांग्रेस को उप मुख्यमंत्री पद मिलेगा।

कॉमन मिनिनम प्रोग्राम का ढांचा तैयार हो गया है

बैठक में यह भी तय हुआ है कि कांग्रेस अपनी विचारधारा से कोई समझौता नहीं करेगी। इतना ही नहीं विवादित मुद्दों को न शिवसेना उठाएगी और न ही कांग्रेस-एनसीपी। कॉमन मिनिनम प्रोग्राम का ढांचा तैयार हो गया है। इस पर सोनिया गांधी की मुहर लग गई है। हालांकि कांग्रेस का उपमुख्यमंत्री का फैसला सोनिया गांधी पर छोड़ा गया है।

तो वहीं कांग्रेस के कई नेता इस गठबंधन के खिलाफ हैं। मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा है कि गठबंधन की सरकार अपना कार्यकाल 5 साल पूरा नहीं कर पाएगी।

ये भी देखें : जानिए राम मंदिर पर फैसला सुनाने के बाद कहा हैं पूर्व CJI रंजन गोगोई

संजय निरुपम ने ट्वीट कर लिखा है कि महाराष्ट्र में कांग्रेस गलती कर रही है। उन्होंने लिखा कि वर्षों पहले उत्तर प्रदेश में बसपा के साथ गठबंधन कर कांग्रेस ने गलती की थी, तब ऐसी पिटी की आजतक नहीं उठ पाई।

महाराष्ट्र में भी कांग्रेस वही गलती कर रही है, शिवसेना की सरकार में तीसरे नंबर की पार्टी बनना कांग्रेस को दफन करने जैसा है। बेहतर होगा कि कांग्रेस अध्यक्ष दबाव में ना आएं।