Top

गुफा में बंद परिवार: सालों बाद भी इन्हें नहीं मिली आजादी, यहां बीता रहे जीवन

देश आज 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। लेकिन आजादी के इतने सालों बाद अभी भी हिमाचल के मंडी और बिलासपुर के बॉर्डर पर लगभग 8 ऐसे परिवार हैं, जो बीते 4 सालों से अपनी जिंदगी गुफा में बीता रहे हैं।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 15 Aug 2020 7:50 AM GMT

गुफा में बंद परिवार: सालों बाद भी इन्हें नहीं मिली आजादी, यहां बीता रहे जीवन
X
गुफा में बंद परिवार: सालों बाद भी इन्हें नहीं मिली आजादी, यहां बीता रहे जीवन
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिलासपुर। देश आज 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। लेकिन आजादी के इतने सालों बाद अभी भी हिमाचल के मंडी और बिलासपुर के बॉर्डर पर लगभग 8 ऐसे परिवार हैं, जो बीते 4 सालों से अपनी जिंदगी गुफा में बीता रहे हैं। सिर्फ पुरुष ही नहीं महिला और बच्चे भी आदिवासियों की तरह जी रहे हैं। इन सबसे सरकार और जिला प्रशासन भी अनभिज्ञ नहीं है। वैसे तो केंद्र और प्रदेश सरकार की भी भूमिहीनों और बेघरों के लिए कई योजनाएं हैं। लेकिन इसके बाद भी इन्हें गुफा से निकालने का कोई प्रयास नहीं हुआ।

ये भी पढ़ें... CM ने दिया बड़ा उपहार: इन क्षेत्रों को होगा लाभ, होंगी हजारों नियुक्तियां

मकान और जमीन भू-स्खलन में तबाह

ये सभी परिवार मकान और जमीन होने के बाद आज बेघर हैं, क्योंकि कोलबांध परियोजना की झील निर्मित होने से इनके मकान और जमीन भू-स्खलन में तबाह हो गए। बीते 4 सालों में दो सरकारों के सामने यह मामला उठा, लेकिन इनकी समस्या का हल नहीं हुआ।

landslides

यहां पर साल 2014-15 में कोलबांध झील बनी थी। उसके बाद साल 2016 में जिला मंडी की धन्यारा पंचायत के कांडी गांव में भू-स्खलन हुआ और ये सभी 8 परिवार इस आपदा में बेघर हो गए।

जिसके बाद तत्कालीन जनप्रतिनिधियों ने पीड़ित परिवारों को फौरी राहत के नाम पर 50-50 हजार रुपये प्रशासन से दिलवाकर औपचारिकता पूरी की, लेकिन उसके बाद इनकी सुध और कोई खबर नहीं ली।

ये भी पढ़ें...देश को तोहफाः मोदी ने लॉन्च किया डिजिटल हेल्थ मिशन, जानें क्या है ये

गुफा में खाना बनाते वहीं सोते और रहते

साथ ही प्रशासन ने बीच में इनमें से कुछ लोगों का धन्यारा स्कूल भवन में रहने का अस्थायी इंतजाम किया, लेकिन इन्हें स्थायी आवास नहीं दिला सके। गुफा में ही ये खाना बनाते हैं, वहीं सोते और रहते हैं।

वहीं दूसरी तरफ इसी पंचायत के गांव समौल, कांडी, मैंदला, रोपडू़, स्वैड़ और बड़ीछ गांव के लगभग 40 परिवार झील बनने के बाद सुरक्षित जगह पलायन कर अपना परिवार पाल रहे हैं।

इस बारे में पूर्व कांग्रेस विधायक सोहन लाल ठाकुर ने बताया कि भूस्खलन कांग्रेस सरकार के समय में हुआ था। मैंने खुद एसडीएम को मौके पर भेज कर लोगों को सहायता मुहैया करवाई थी। वह इस मामले को सरकार के समक्ष उठाएंगे।

ये भी पढ़ें...स्वतंत्रता दिवस: अमेरिका ने दी भारत को शुभकामनाएं, पोंपियो बोले दोनों अच्छे दोस्त

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story