हैदराबाद एनकाउंटर: तेलंगाना पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर किया ये बड़ा खुलासा

आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीनने की कोशिश की और उनपर गोलियां चलाई। बाद में उन्होने भागने की भी कोशिश की जिसके जवाब पर पुलिस को गोली चालानी पड़ी। इस दौरान चार आरोपी मारे गए।

हैदराबाद:  25 वर्षीय पशु-चिकित्सक के सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए चार आरोपी शुक्रवार सुबह पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए। पुलिस की माने तो यह घटना सुबह के साढ़े छह बजे की बात है। जांच के लिए पुलिस आरोपियों को घटनाक्रम की पूरी जानकारी के लिए घटनास्थल पर ले गई थी। तेलंगाना पुलिस प्रेस शुरू हो चुकी है। साइबराबाद पुलिस के कमिश्नर वी. सज्जनार प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे हैं।

तेलंगाना पुलिस की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू…

तेलंगाना पुलिस की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू हो गई है। साइबराबाद पुलिस के कमिश्नर वी. सज्जनार ने कहा कि 27-28 नवंबर की रात युवती के साथ दुष्कर्म हुआ और बाद में जिंदा जला दिया गया। हमने आरोपियों के खिलाफ सबूत इकट्ठे किए और बाद में उन्हें गिरफ्तार किया। हमें दस दिन के लिए पुलिस कस्टडी मिली।

ये भी देखें : यूपी: गोवंश की रक्षा के लिए योगी सरकार उठा सकती है ये बड़ा कदम

पुलिस पार्टी पर हमला बोला हमारे दो हथियार छीनने की कोशिश की

कमिश्नर ने एनकाउंटर का खुलासा करते हुए आगे कहा कि  रिमांड के चौथे दिन हम उन्हें बाहर लेकर आए, उन्होंने हमें सबूत दिए। आज हम उन्हें आगे के सबूत इकट्ठा करने के लिए लेकर आए थे, लेकिन उन्होंने पुलिस पार्टी पर हमला बोल दिया। हमारे दो हथियार छीने गए थे, जिसके बाद पुलिस को आरोपियों पर फायरिंग करनी पड़ी।

 कई अन्य केस से भी जुड़ा है आरोपियों का नाम

चारों आरोपियों की मौत गोली लगने के कारण से ही हुई है, इस दौरान एक SI और कॉन्स्टेबल घायल भी हुए हैं। हमने आरोपियों का डीएनए टेस्ट भी किया है, ये सभी लोग कर्नाटक-तेलंगाना में कई मामलों में आरोपी थे। साइबराबाद पुलिस के कमिश्नर ने कहा कि शुक्रवार सुबह 5.45 से 6.15 के बीच में एनकाउंटर हुआ, इन आरोपियों का नाम कई अन्य केस से भी जुड़ा है, इसकी जांच चल रही है।

ये भी देखें : मायावती ने देश की समस्याओं के लिए इन दो पार्टियों को ठहराया जिम्मेदार

सरेंडर करने को कहा था

पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनर ने बताया कि पुलिस ने आरोपियों को चेताया था और सरेंडर करने को कहा था लेकिन उन्होंने फायरिंग जारी रखी। यही कारण रहा कि हमने खुली फायरिंग की और इसी दौरान आरोपी मारे गए। कमिश्नर ने कहा कि जो दो पुलिसवाले घायल हुए हैं उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है।

ये भी देखें : परिनिर्वाण दिवस: प्रधानमंत्री-राष्ट्रपति ने दी अंबेडकर को श्रद्धांजलि, जानिए उनके योगदान

वहाँ पर आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीनने की कोशिश की और उनपर गोलियां चलाई। बाद में उन्होने भागने की भी कोशिश की जिसके जवाब पर पुलिस को गोली चालानी पड़ी। इस दौरान चार आरोपी मारे गए।

उन्होने बताया कि इस घटना में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। हैदराबाद में पशु चिकित्सक युवती का बलात्कार और हत्या के चारों आरोपियों की आयु 20 से 24 वर्ष थी। उनमें से एक लॉरी चालक था और बाकी हेल्पर थे। उन्हें 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था।

ये भी देखें :उन्नाव केस: 24 घंटे में क्या-क्या हुआ? किसने दी पीड़िता के परिवार को धमकी? यहां जानें

आरोपियों ने बलात्कार के बाद युवती की गला दबाकर हत्या कर दी थी और बाद में शव को जला दिया था। आरोपियों को सात दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। चारों आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने पर पीड़िता की बहन ने प्रसन्नता जताई।