×

मार्केट में नहीं मिली किताब तो IIM के 21 छात्रों ने खुद ही दी लिख दी Textbook

आईआईएम अहमदाबाद के 2018-2020 बैच के 21 स्टूडेंट्स ने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया है, जिसकी लोग प्रशंसा कर रहे हैं। दरअसल हुआ यह कि यहां के पीजीपी स्टूडेंट अरुण नंदेवाल और उनके बैचमेट्स को प्रॉडक्शन मैनेजमेंट की किताब चाहिए थी।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 27 Jan 2020 11:39 AM GMT

मार्केट में नहीं मिली किताब तो IIM के 21 छात्रों ने खुद ही दी लिख दी Textbook
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

अहमदाबाद: आईआईएम अहमदाबाद के 2018-2020 बैच के 21 स्टूडेंट्स ने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया है, जिसकी लोग प्रशंसा कर रहे हैं। दरअसल हुआ यह कि यहां के पीजीपी स्टूडेंट अरुण नंदेवाल और उनके बैचमेट्स को प्रॉडक्शन मैनेजमेंट की किताब चाहिए थी।

जब उन्होंने किताब की खोज शुरू की तो उन्हें इस सब्जेक्ट पर मात्र एक ही किताब मिली। जिस किताब को आईआईटी मद्रास के पूर्व छात्र ने लिखा था।

इस बात से सभी स्टूडेंट चकित रह गए और खुद नंदेवाल और उनके 20 बैचमेट्स ने खुद से टेक्स्टबुक लिखने का फैसला किया। उन्होंने अपनी किताब में बाजार में हालिया डेवलपमेंट जैसे ई-कॉमर्स वेबसाइट्स, कैब एग्रीगेटर्स, मल्टिप्लेयर ऑनलाइन रोल प्लेइंग गेम्स (एमएमओआरपीजी) जैसे पब्जी, ब्लॉकचेन व अन्य को भी शामिल किया।

टीम ने पिछले साल जून में किताब लिखनी शुरू की थी और 6 महीने के अंदर 125 पन्नों की किताब लिख डाली। इस किताब का टाइटल दिया - Futuristic Outlook to Product Management Industry Review Guide 2019 (फ्यूचरिस्टिक आउटलुक टू प्रोडक्ट मैनेजमेंट इंडस्ट्री रिव्यू गाइड 2019)।

ये भी पढ़ें...लखनऊ: IIM में हुआ लीडरशिप डेवलपमेंट प्रोग्राम, सीएम योगी ने की शिरकत

हर बैच में किताब होगी अपडेट

किताब के मुख्य लेखक नंदेवाल ने बताया कि उनकी टीम अब किताब को आईआईएम अहमदाबाद के कोर्स में शामिल करने के लिए प्रयास कर रही है। टीम की सबसे छोटी सदस्य अनन्या दलाल ने बताया कि यह किताब एक कीमती संसाधन होगी।

उन्होंने बताया, 'यह एक डायनामिक किताब है और टीम यह उम्मीद करती है कि हमारे बाद आने वाले हर बैच के साथी इसे अपडेट करें।' उन्होंने बताया, 'इस टेक्स्टबुक की बैच के बाकी साथियों द्वारा समीक्षा की जा रही है और हम अपने प्रफेसर से इनको लेकर पहले ही सुझाव ले चुके हैं।'

इंटरव्यू की तैयारी करने वालों के लिए फायदेमंद होगी किताब

नंदेवाल ने बताया कि यह किताब बिगनर्स के लिए है। वह बताते हैं, 'यह उनके लिए भी मददगार होगी जो नौकरी बदलना चाहते हैं या फिर इंटरव्यू के लिए तैयारी करना चाहते हैं।'

उन्होंने बताया कि किताब लिखने वाले प्रत्येक बैचमेट को नई डोमेन जैसे ब्लॉकचेन, ब्रैंड लाइफसाइकल, गेमिंग और ओटीटी प्लैटफॉर्म पर काम करने का अनुभव है। नंदेवाल ने बताया, 'हमने टीम के लिए केस स्टडी लिखने और इकट्ठा करने का फैसला किया।'

ये भी पढ़ें...आरक्षण के नाम पर दी दलील, देश के सभी IIM ने सरकार से की ये मांग…

तेजी से उभरता क्षेत्र है प्रॉडक्ट मैनेजमेंट

नंदेवाल ने बताया, 'इस किताब में अनुभव और ज्ञान का मेल है जिससे यह इन कोर्स के छात्रों को भी आकर्षित करेगी।' पीजीपीएक्स स्टूडेंट अंशुमन सिंह ने बताया कि टेक्नॉलजी फर्मों में अपने 14 साल के अनुभव के साथ उन्होंने किताब में एक रियल टाइम प्रॉडक्ट मैनेजमेंट केस में योगदान दिया है। वह बताते हैं, 'प्रॉडक्ट मैनेजमेंट तेजी से उभरता क्षेत्र है और टेक की लगभग सभी बड़ी कंपनियां अब इसी के लिए भर्तियां कर रही हैं।'

ये भी पढ़ें...प्रदूषण से बचने के लिए आईआईटी कानपुर ने उठाया ये बड़ा कदम

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story