अभी-अभी LAC से पीछे हटी चीनी सेना, गलवान घाटी के पास बना ये जोन

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी तनाव के बीच बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि 15 जून को गलवान घाटी के पास हुई झड़प वाली जगह से चीनी सेना एक किलोमीटर तक पीछे हटी है।

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी तनाव के बीच बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि 15 जून को गलवान घाटी के पास हुई झड़प वाली जगह से चीनी सेना एक किलोमीटर तक पीछे हटी है। बता दें कि खूनी झड़प के बाद से ही दोनों पक्षों के बीच लगातार सैनिकों को पीछे हटाने को लेकर मंथन चल रहा था और चीनी सेना का यह कदम इस प्रक्रिया का पहला पड़ाव माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें: सावन के पहले सोमवार के मौके पर मनकामेश्वर मंदिर में पहुंचे श्रद्धालु, देखें तस्वीरें

गलवान घाटी के पास बनाया गया बफर जोन

गौरतलब है कि लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर भारत और चीन के बीच मई महीने से विवाद जारी है। इस बीच LAC पर गलवान घाटी में हिंसा वाले जगह से चीनी सेना लगभग एक किलोमीटर तक पीछे हटी हैं। वहीं गलवान घाटी के पास अब बफर जोन भी बनाया गया है, जिससे दोनों सेनाओं के बीच खूनी हिंसा की घटना फिर ना हो पाए। सूत्रों के मुताबिक, भारतीय और चीनी सेना ने रिलोकेशन पर सहमति जाहिर की है और सेनाओं झड़प वाली जगह से पीछे हटी हैं।

यह भी पढ़ें: वर्दी वाला मुखबिर: पता चल गया नाम, ये है 8 पुलिसकर्मियों की मौतों का जिम्मेदार

15 जून को गलवान घाटी में आमने सामने आई थीं दोनों सेना

गौरतलब है कि 15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी के पास भारतीय जवानों की चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प हो गई थी। जिसमें भारतीय सेना के कर्नल समेत 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं चीन की तरफ 45 से ज्यादा सैनिकों के मारे जाने या घायल होने की खबर सामने आई थी। हालांकि अब तक चीन ने अपने पक्ष के मारे गए सैनिकों की संख्या सार्वजनिक नहीं की है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के बीच इस भयानक बीमारी की दस्तक, भारत के बच्चों के लिए बनी काल

हालात को सामान्य करने के लिए जारी है वार्ता

आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच मई महीने से ही तनाव जारी है। वहीं 15 जून को हुई हिंसक झड़प के बाद तनाव चरम पर पहुंच गया है। फिलहाल इस तनाव को कम करने और सीमा पर हालात सामान्य करने के लिए दोनों देशों के बीच बातचीत का सिलसिला जारी है। दोनों देशों के बीच 6 जून, 22 जून और 30 जून को वार्ता हुई है। जिसमें मौजूदा स्थिति को पहले की तरह बहाल करने की बात कही गई।

यह भी पढ़ें: नहीं मिलेंगे, इस बार शिशुपाल के राज्य में शल्लेश्वर महादेव के दर्शन

भारत अपने मुद्दे पर अड़ा रहा, लेकिन चीन नहीं माना। चीन की ओर से बॉर्डर के पास सेना की मौजूदगी बढ़ाई गई, जिसके बाद भारत ने भी अपनी तैनाती को बढ़ा दिया। अब लद्दाख बॉर्डर पर भारतीय सेना की कई टुकड़ियां तैनात हैं।

यह भी पढ़ें: एक और बड़ा खुलासा: विकास दुबे और इन पुलिसवालों का सीधा कनेक्शन

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।