Top

चीन की गीदड़भभकी पर सेना का जवाब: आर-पार की जंग के लिए पूरी तरह तैयार

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बढ़ते सैन्य तनाव के बीच भारतीय सेना ने चीन की गीदड़भभकी का मुंहतोड़ जवाब दिया है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 16 Sep 2020 3:56 PM GMT

चीन की गीदड़भभकी पर सेना का जवाब: आर-पार की जंग के लिए पूरी तरह तैयार
X
चीन की गीदड़भभकी पर सेना का जवाब: आर-पार की जंग के लिए पूरी तरह तैयार
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बढ़ते सैन्य तनाव के बीच भारतीय सेना ने चीन की गीदड़भभकी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। चीनी मीडिया की ओर से भारतीय सेना की तैयारियों को आधी-अधूरी बताए जाने पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए सेना की ओर से स्पष्ट किया गया है कि भारतीय सेना हर हालात का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार है। भारतीय सेना की ओर से यह भी स्पष्ट किया गया है कि अगर सर्दी के दिनों में चीन की ओर से कोई दुस्साहस किया गया तो उसका सामना ऐसी सेना से होगा जो उसे पूरी तरह मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम है।

ये भी पढ़ें: DM का विद्युत विभाग व मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण, कई पर गिरी गाज

चीनी मीडिया के दुष्प्रचार का जवाब

दरअसल चीन की मीडिया की ओर से ऐसा दुष्प्रचार किया जा रहा है कि भारतीय सेना की तैयारियां पूरी नहीं है और वह चीनी सेना के सामने नहीं ठहर पाएगी। चीनी मीडिया की ओर से किए जा रहे दुष्प्रचार का जवाब देते हुए भारतीय सेना ने स्पष्ट कर दिया है कि चीन की सेना को मैदानी इलाकों और ऊंची चोटियों पर जंग करने का कोई भी अनुभव नहीं है।

शहरी पृष्ठभूमि वाले चीनी जवान जमीनी हकीकत से पूरी तरह वाकिफ नहीं है। सेना की उत्तरी कमान के प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि यदि सर्दी के दिनों में भी जंग के हालात बनते हैं तो भारतीय सेना चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है।

बातचीत पहले मगर जंग के लिए भी तैयार

सेना के प्रवक्ता ने कहा कि भारत हमेशा शांति का पक्षधर रहा है और पड़ोसियों से बेहतर रिश्ते बनाने का इच्छुक है। हम किसी भी विवाद को बातचीत के जरिए हल करना चाहते हैं। कोई कारण है कि एलएसी पर विवाद का बातचीत के जरिए समाधान करने की कोशिश की जा रही है मगर यदि जंग के हालात बनते हैं और भारत दुश्मन सेना को जवाब देना पूरी तरह सक्षम और तैयार है।

बर्फबारी के दिनों में भी डटी रहेगी सेना

भारतीय सेना की ओर से स्पष्ट किया गया है कि लद्दाख के तमाम इलाके ऊंचे पर्वतीय क्षेत्र हैं और यहां सर्दी के दिनों में भारी बर्फबारी होती है और तापमान काफी नीचे चला जाता है।

ठंड के दिनों में लद्दाख को जोड़ने वाले कई रास्ते भी बर्फबारी की वजह से बंद कर दिए जाते हैं मगर मुश्किल स्थितियों में भी भारतीय सेना डटी रहेगी। सेना के प्रवक्ता ने कहा कि हमारे जवानों को ऐसे इलाकों में तैनाती का लंबा अनुभव है और हम शॉर्ट नोटिस पर भी किसी भी हालात से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

ये भी पढ़ें: करोड़ों का Parliament House: टाटा कंपनी ने जीता ठेका, दिखेगा कुछ ऐसा

कोई मुगालता न पाले चीनी सेना

सेना के प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि भारतीय सेना की ताकत के बारे में चीन को किसी मुगालते में नहीं रहना चाहिए क्योंकि हमारे पास सियाचिन जैसे मुश्किल क्षेत्रों में भी काम करने का तजुर्बा है। भारतीय सेना का जवाब चीनी मीडिया की ओर से उठाए गए सवालों के बीच में आया है।

दुष्प्रचार से बाज आए चीनी मीडिया

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स की ओर से दावा किया गया था लद्दाख के हालातों को देखते हुए भारतीय सेना पूरी तरह तैयार नहीं है। ऐसे में भारतीय सेना की ओर से साफ किया गया है कि लद्दाख के मुश्किल हालात में सेना के जवानों के लिए राशन, हथियार, जरूरी उपकरण, कपड़ा और रहने की पूरी व्यवस्था कर ली गई है। इसलिए चीन को इस बाबत दुष्प्रचार करने से बाज आना चाहिए।

सेना की ओर से यह भी स्पष्ट किया गया है कि लद्दाख के ऊंचे इलाकों में पहुंचने के लिए सेना की ओर से वैकल्पिक मार्ग का भी निर्माण पूरा कर लिया गया है। जवानों और सामानों की आपूर्ति के लिए सड़क मार्ग के साथ एयरबेस भी मदद करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

ये भी पढ़ें: भाजपा MLC ने सीएम को लिखा पत्र, कहा कि संविदा की नई नियमावली को करें निरस्त

Newstrack

Newstrack

Next Story