सीमा पर तनाव: ढाई महीने बाद भारत-चीन के बीच हो रही बैठक, इन मुद्दों पर चर्चा

भारत और चीन के बीच तनाव कम करने के लिए यह बैठक एलएसी पर चीन के मोल्डो बीपीएम-हट में हो रही है। मीटिंग का एजेंडा डिसइंगेजमेंट और डि-एस्कलेशन होगा यानी दोनों देशों के सैनिक एलएसी से पीछे हट जाएं और सैनिकों की तादाद भी कम करें।

Published by Dharmendra kumar Published: January 24, 2021 | 9:35 am
Modified: January 24, 2021 | 10:46 am
India-China

सीमा पर तनाव: ढाई महीने बाद भारत-चीन के बीच हो रही बैठक, इन मुद्दों पर चर्चा (फोटो: सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इस तनाव को कम करने के लिए रविवार को यानी आज एक बार फिर दोनों देशों के बीच सैन्य कमांडर स्तर की बैठक हो रही है। यह बैठक चीन ने बुलाई है। चीन और भारत के बीच यह करीब ढाई महीने बाद बैठक हो रही है। भारत और चीन के बीच सैन्य कमांडर स्तर की नौवें दौर की बातचीत के लिए तैयारी की है।

मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय सेना की ओर से लेह स्थित 14वीं कोर (फायर एंड फ्यूरी कोर) के कमांडर, लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन नेतृत्व कर रहे हैं, तो वहीं चीन की तरफ से पीएलए-सेना के दक्षिणी झिंगज्यांग डिस्ट्रिक के कमांडर।

ये है मुद्दा

भारत और चीन के बीच तनाव कम करने के लिए यह बैठक एलएसी पर चीन के मोल्डो बीपीएम-हट में हो रही है। मीटिंग का एजेंडा डिसइंगेजमेंट और डि-एस्कलेशन होगा यानी दोनों देशों के सैनिक एलएसी से पीछे हट जाएं और सैनिकों की तादाद भी कम करें।

ये भी पढ़ें…गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली की मिली इजाजत, किसानों ने किया दावा

Indian Army

गौरतलब है कि इससे पहले दोनों देशों के बीच आठ दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन भारत और चीन के बीच टकराव खत्म नहीं हो रहा था। इनके बाद दोनों देशों के बीच कोर कमांडर स्तर की बैठक करीब करीब बंद हो गई थी। बीते करीब ढाई महीनों से दोनों देशों के बीच कोई बैठक नहीं हुई है। हालांकि दोनों देशों के राजनयिक तनाव खत्म करने के लिए जरूर मुलाकात कर रहे हैं। अब दोनों देश सीमा पर चल रहे तनाव को कम करने के लिए एक बार फिर बैठक करने जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें…लालू यादव को एयर एंबुलेंस से लाया गया दिल्ली, AIIMS में भर्ती, ऐसी है तबियत

आखिरी सैन्य बैठक 6 नवंबर को हुई थी

भारत और चीन के बीच आखिरी बार सैन्य बैठक छह नवंबर को हुई थी। बता दें कि नॉर्दन आर्मी कमांडर के पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुडा का कहना है कि भारत और चीन के सेनाओं के बीच बातचीत से नतीजा निकलने की उम्मीद कम है। इस विवाद को राजनियक स्तर पर ही दोनों देश निपट सकते हैं।

ये भी पढ़ें…चूक गई सरकारः किसान आंदोलन के देश भर में फैलने का खतरा, बन सकता है चुनौती

गौरतलब है कि करीब साढ़े तीन महीने पहले भारतीय सैनिक पूर्वी लद्दाख में पेगोंग झील के दक्षिण किनारे पर रणनीतिक रूप से अहम मुखपरी, रेचिन ला और मगर हिल इलाके के कई ऊंचाई वाले स्थानों पर कब्जा कर लिया था।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App