संयुक्त राष्ट्र में बोले पीएम मोदी, हमने दुनिया को युद्ध नहीं, बुद्ध दिए

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र की शुरुआत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सत्र को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी से पहले इस सत्र को मॉरिशस के राष्ट्रपति, इंडोनेशिया के उपराष्ट्रपति और लिसोथो के संबोधित करेंगे।

Published by Dharmendra kumar Published: September 27, 2019 | 7:18 pm
Modified: September 27, 2019 | 8:17 pm

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि मेरी सरकार को मजबूत जनादेश मिला है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता का जनादेश भारत में शुरू हुआ, जो व्यापक स्तर पर रहा और प्रेरक रहा।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ योजना आयुष्मान चलाई जा रही है। इसके तहत हर साल 50 लाख लोगों को पांच लाख रुपये तक मुफ्त चिकित्सा की सुविधा दी जा रही है। उन्होंने बताया कि 5 साल में 11 करोड़ शौचालय बनाए गए।

यहां पढ़ें पीएम मोदी का पूरा भाषण…

 

 

यह भी पढ़ें…जानिए उस मंदिर के बारे में सबकुछ, जहां शनि शिला की होती है पूजा

भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ अभियान जारी है: पीएम मोदी

5 साल में 11 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनवाए: पीएम मोदी

 

जब एक विकासशील देश, दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम सफलतापूर्वक चलाता है, 50 करोड़ लोगों को हर साल 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की सुविधा देता है, तो उसके साथ बनी संवेदनशील व्यवस्थाएं पूरी दुनिया को एक नया मार्ग दिखाती हैं: पीएम मोदी

 

हमारी प्रेरणा है- सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास। हम 130 करोड़ भारतीयों को केंद्र में रखकर प्रयास कर रहे हैं लेकिन ये प्रयास जिन सपनों के लिए हो रहे हैं, वो सारे विश्व के हैं, हर देश के हैं, हर समाज के हैं। प्रयास हमारे हैं, परिणाम सारे संसार के लिए हैं: पीएम मोदी

यह भी पढ़ें…60 सालों में पहली बार हुआ ऐसा, 5 दिन में 34 मौत, अभी और मचेगी तबाही

भारत जिन विषयों को उठा रहा है, जिन नए वैश्विक मंचों के निर्माण के लिए भारत आगे आया है, उसका आधार वैश्विक चुनौतियां हैं, वैश्विक विषय हैं और गंभीर समस्याओं के समाधान का सामूहिक प्रयास है: पीएम मोदी

UN peacekeeping missions में सबसे बड़ा बलिदान अगर किसी देश ने दिया है, तो वो देश भारत है। हम उस देश के वासी हैं जिसने दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध दिए हैं, शांति का संदेश दिया है: पीएम मोदी

हमारी आवाज में आतंक के खिलाफ दुनिया को सतर्क करने की गंभीरता भी है और आक्रोश भी। हम मानते हैं कि ये किसी एक देश की नहीं, बल्कि पूरी दुनिया की और मानवता की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है: पीएम मोदी

यह भी पढ़ें…हुआ बड़ा ऐलान: सरकार ने छोटे कारोबारियों को दी बड़ी खुशखबरी

आतंक के नाम पर बटी हुई दुनिया, उन सिद्धांतों को ठेस पहुंचाती है, जिनके आधार पर UN का जन्म हुआ है। इसलिए मानवता की खातिर आतंक के खिलाफ पूरे विश्व का एकमत होना, एकजुट होना मैं अनिवार्य समझता हूं: पीएम मोदी

21वीं सदी की आधुनिक टेक्नोलॉजी, समाज, अर्थव्यवस्था, सुरक्षा, कनेक्टिविटी और अंतरराष्ट्रीय संबंधों में सामूहिक परिवर्तन ला रही है। इन परिस्थितियों में एक बिखरी हुई दुनिया किसी के हित में नहीं है। ना ही हम सभी के पास अपनी-अपनी सीमाओं के भीतर सिमट जाने का विकल्प है: पीएम मोदी

सवा सौ साल पहले भारत के महान आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद ने शिकागो में World Parliament of Religions के दौरान विश्व को एक संदेश दिया था। विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का आज भी अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए यही संदेश है- Harmony and Peace: पीएम मोदी