मरेगी चीनी सेना: भारत लाया ये खतरनाक हथियार, अब युद्ध को तैयार हमारी सेना

सीमा की सुरक्षा में लगे इन्ही सैनिकों के लिए अमेरिका से युद्धक किट और ठंड में पहनने के लिए कपड़े खरीदे गए हैं। वहीं बेहद कम तापमान को झेलने की क्षमता वाले तंबू भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

India scrambles to buy winter gear from US amid LAC tension with China

लखनऊ: भारत और चीन के बीच लद्दाख के एलएसी पर इस साल बढ़ते जा रहे तनाव के बीच भारतीय सेना ने खुद को मजबूत करने के लिए हथियारों की खरीद शुरू कर दी। इसके अलावा सर्दियाँ आने वाली है और लद्दाख में भारतीय जवानों की मुस्तैदी में कोई असर न पड़े इसके लिए देश ने अमेरिका से सर्दियों के कपड़े और ऊचाई वाले इलाकों के लिए युद्धक किट भी खरीदी हैं।

भारत में अमेरिका से सर्दियों के कपड़े और ऊंचाई वाले इलाकों के लिए युद्धक किट खरीदें

दरअसल, लद्दाख में ठंड के दौरान तापमान माइनस 50 डिग्री तक पहुँच जाता है। वैसे तो हर साल ही भारतीय जवान सीमा पर हर मौसम में अडिग खड़े रहते हैं लेकिन इस बार चीन से बढ़े तनाव और पीएलए के लगातार भारतीय सीमा पर कब्जा जमाने की चाल को विफल करने के लिए सेना की तैनाती बढ़ा दी गयी। सीमा की सुरक्षा में लगे इन्ही सैनिकों के लिए अमेरिका से युद्धक किट और ठंड में पहनने के लिए कपड़े खरीदे गए हैं। वहीं बेहद कम तापमान को झेलने की क्षमता वाले तंबू भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

India scrambles to buy winter gear from US amid LAC tension with China

ये भी पढ़ें- LAC पर हाई अलर्ट: बड़ी संख्या में तैनात चीनी सैनिक, भारत के लिए गंभीर सुरक्षा चुनौती

लॉजिस्टिक एक्सचेंज मेमोरेंडम (लेमोआ) समझौते के तहत अमेरिका से खरीदारी

जानकारी के मुताबिक, भारत ने अमेरिका से ये खरीदारी साल 2016 में हुए लॉजिस्टिक एक्सचेंज मेमोरेंडम (लेमोआ) समझौते के तहत की है। बता दें कि इस समझौते के तहत भारत और अमेरिका के बीच सशस्त्र बलों के बीच युद्धपोतों, विमानों के लिए ईंधन, स्पेयर पार्ट्स, लॉजिस्टिक सपोर्ट, सप्लाई और अन्य सेवाओं की सुविधा मिलती है। इनमें कपड़े, भोजन, स्नेहक, स्पेयर पार्ट्स, अन्य आवश्यक वस्तुओं के बीच चिकित्सा सेवाएं शामिल हैं।

India scrambles to buy winter gear from US amid LAC tension with China

ये भी पढ़ें- यूपी में राष्ट्रपति शासन: बलिया गोली कांड सरकार पर बरसे ओपी राजभर, कर दी ये मांग

चीन से भारत खरीदता था क्षाबल संबंधित किट

गौरतलब है कि भारत इसके पहले तक ये रक्षाबल संबंधित किट चीन या यूरोप से मुख्य तौर पर खरीदता था लेकिन इन हालातों में चीन से युद्धक किट खरीदना संभव नहीं। ऐसे में भारत अमेरिका और यूरोप से ये खरीदारी कर रहा है। इसी कड़ी में भारतीय सेना के वाइस चीफ इसके सैनी अमेरिका की यात्रा पर हैं, जहां वे अन्य आपातकालीन खरीद और निर्माण क्षमताओं को लेकर चर्चा करेंगे।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App