अमेरिका-ईरान में युद्ध की आशंका, भारत ने लिया ये बड़ा फैसला

अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव और युद्ध की आशंका के बीच भारत ने अपने विमानों को ईरान के एयरस्पेस से नहीं गुजारने का फैसला लिया है। नागर विमानन महानिदेशालय (जीडीसीए) ने फैसला किया है कि भारतीय विमान ईरान के एयरस्पेस से गुजरने से परहेज करेंगे।

नई दिल्ली: अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव और युद्ध की आशंका के बीच भारत ने अपने विमानों को ईरान के एयरस्पेस से नहीं गुजारने का फैसला लिया है। नागर विमानन महानिदेशालय (जीडीसीए) ने फैसला किया है कि भारतीय विमान ईरान के एयरस्पेस से गुजरने से परहेज करेंगे। जीडीसीए ने यात्रियों की सुरक्षा के मद्देनजर यह फैसला लिया है।

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने ऑल इंडिया ऑपरेटर्स साथ सलाह के बाद यात्रियों की सुरक्षा के लिए ईरानी हवाई क्षेत्र के तनातनी के कारण प्रभावित हिस्से का उपयोग नहीं करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें…अमेठी में BJP के खिलाफ वोट करने वालों के लिए ईरानी ने कही दिल को छू लेने वाली ये बात

निदेशालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक एयरलाइन्स फ्लाइट्स के मार्ग का फिर से निर्धारण करेंगी। एयर इंडिया के अश्वनी लोहानी ने कहा है कि निदेशालय की सलाह पर अमल करते हुए फ्लाइट्स के मार्ग का पुनर्निर्धारण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एयर इंडिया की फ्लाइट्स पर कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ा है।

यह भी पढ़ें…आरोप लगाओ और भागो बना विपक्ष का सियासी एजेंडा: सिद्धार्थ नाथ सिंह

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया की क्वांटस, ब्रिटिश एयरवेज, नीदरलैंड्स की केएलएम और जर्मनी की लुफ्तांसा भी उस क्षेत्र में उड़ान से पहरेज करेंगी। वैश्विक एयरलाइंस को दिशानिर्देश मुहैया कराने वाली कंपनी ओपीएस ग्रुप ने चेतावनी देते हुए कहा, ‘किसी नागरिक विमान को दक्षिणी ईरान में मार गिराने का खतरा वास्तविक है।’

यह भी पढ़ें…दिल्ली में हुई दिल दहला देने वाली घटना: पत्नी समेत तीन माह की बच्ची को भी काटा

वहीं FAA (द फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन) ने कहा कि उसकी चेतावनी तेहरान फ्लाइट इंफर्मेशन रीजन के क्षेत्र को प्रभावित कर सकती है। एफएए ने कहा, ‘क्षेत्र में सैन्य गतिविधियां और राजनीतिक तनाव बढ़ा हुआ है जो कि अमेरिकी नागरिक उड़ानों के लिए अनजाना जोखिम उत्पन्न करता है और यह गलत पहचान का खतरा उत्पन्न करता है।’