बारिश होगी झमाझम: इन इलाकों में जल्द सर्दियों का आगाज, मौसम बेहद सुहावना

देशभर में अब सर्दियों के आने का इंतजार है। दिन में तो नहीं लेकिन रात में अब हल्की फुल्की तापमान में गिरावट भी आई है। जिसकी वजह से ऐसा कहा जा रहा कि इस बार सर्दियों जल्दी ही आएंगी।

winter

फोटो-सोशल मीडिया

नई दिल्ली। देशभर में अब सर्दियों के आने का इंतजार है। दिन में तो नहीं लेकिन रात में अब हल्की फुल्की तापमान में गिरावट भी आई है। जिसकी वजह से ऐसा कहा जा रहा कि इस बार सर्दियों जल्दी ही आएंगी। ऐसे में भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि दिल्ली(Delhi), राजस्थान(Rajasthan), पंजाब(Punjab) और हरियाणा(Haryana) सहित दक्षिण भारत(North India) के अधिकतर हिस्सों से दक्षिण पश्चिमी मानसून लौटने की स्थिति बनती नजर आ रही है। लेकिन आज झारखण्ड (jharkhand), बिहार(bihar), उत्तर प्रदेश(uttar pradesh) के कुछ हिस्सों में हल्के से मध्यम बारिश होने की संभावना जताई जा रही है।

ये भी पढ़ें… अब नहीं बचेगा चीन: इन 4 शक्तिशाली देशों ने किया बड़ा एलान, कांपा ड्रैगन

आसमान में काले बादल

देशभर में अब फिर मौसम तेजी से करवट लेता नजर आ रहा है। धीरे-धीरे गर्मी का एहसास कम होने लगा है। ऐसे में झारखंड की राजधानी रांची में मौसम का हाल बता दें- यहां राजधानी समेत सूबे के तमाम जिलों में सुबह से ही आसमान में काले बादल छाए हुए है।

ऐसे में भारतीय मौसम विभाग केे अनुसार, उत्तर पश्चिमी भारत के अधिकांश क्षेत्रों में मौसम सूखा अगले पांच दिनों तक सूखा रहेगा। राजधानी दिल्ली में वैसे तो आसमान साफ रहेगा। लेकिन न्‍यूनतम तापमान 22 और अधिकतम 37 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है। दिल्ली में मंगलवार को वायु गुणवत्ता मध्यम दर्जे की रही, हालाकिं शुक्रवार को इसके खराब होने की संभावना है।

ये भी पढ़ें…राजस्थानः लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के पिता का निधन, सीएम अशोक गहलोत ने जताया शोक

rain
फोटो-सोशल मीडिया

मानसून के लौटने की स्थिति

मौसम विभाग (IMD) ने कहा कि राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली के अधिकांश भागों तथा उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में अगले दो दिन में मानसून के लौटने की स्थिति बन रही है।

आईएमडी(IMD) के एक अधिकारी के मुताबिक, सोमवार से राजस्थान से मानसून के लौटने की शुरुआत हो गई और अगले तीन दिन में उत्तर पश्चिमी भारत के बाकी क्षेत्रों से भी लौटने की संभावना है।

ये भी पढ़ें…किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी, ये सरकारी एजेंसियां खरीदेंगी लाखों मीट्रिक टन धान

नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही

नदियों का हाल बताते हुए बता दें- गुवाहाटी, नीमतीघाट और तेजपुर में ब्रह्मपुत्र नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और कई स्थानों पर उसकी सहायक नदियां जिया भरली और कोपीली भी लाल निशान के ऊपर बह रही हैं।

ऐसे में असम में विश्वनाथ जिले में एक व्यक्ति की मौत के साथ इस साल बाढ़ से संबंधित घटनाओं में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 120 हो गई है। विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा कि अभी 12 जिलों में 458 गांवों के 2,78,979 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं जबकि सोमवार को 13 जिलों के 3.18 लाख लोग प्रभावित थे।

ये भी पढ़ें…हाथरस गैंगरेप: पुलिस ने कराया पीड़िता का अंतिम संस्कार, विरोध करते रहे परिजन

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App