यहां बना देश का पहला कोरोना मेडिकल कॉल सेंटर,आप भी ले सकते हैं जानकारी

देश में अबतक  कोरोना से 71 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसी बीच कोरोना से लड़ने के लिए उत्तर प्रदेश के नोएडा में अत्याधुनिक कॉल सेंटर बनाया गया है। खास बात यह है कि ये देश का पहला कोरोना मेडिकल कॉल सेंटर है।यहां कोरोना से लड़ने के लिए आधुनिक तकनीक का पूरा इस्तेमाल किया गया है।

Published by suman Published: April 4, 2020 | 9:22 am

नोएडा :देश में अबतक  कोरोना से 71 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसी बीच कोरोना से लड़ने के लिए उत्तर प्रदेश के नोएडा में अत्याधुनिक कॉल सेंटर बनाया गया है। खास बात यह है कि ये देश का पहला कोरोना मेडिकल कॉल सेंटर है।यहां कोरोना से लड़ने के लिए आधुनिक तकनीक का पूरा इस्तेमाल किया गया है।

 

यह पढ़ें…जज्बे को सलाम: हमला होने के बाद भी काम पर पहुंचे डॉक्टर, कोरोना से लड़ रहे जंग

 

पहला कॉल सेंटर

यह कॉल सेंटर नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर सेक्टर-126 में एचसीएल के कॉल सेंटर में बनाया गया है। गुरुवार को ही नोएडा के जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अत्याधुनिक मेडिकल कॉल सेंटर बनाने की बात कही थी। साथ ही इसे 48 घंटे में चालू करने के बात भी कही थी।

इस कॉल सेंटर के लिए तकनीकी सुविधाएं एच सी एल सॉफ्टवेयर कंपनी ने मुहैया कराई है। साथ ही मेडिकल सुविधाएं शारदा मेडिकल कॉलेज की ओर से मुहैया कराई जा रही हैं।जिला प्रशासन ने शारदा मेडिकल कॉलेज से 12 जूनियर डॉक्टर कॉल सेंटर में नियुक्त करने की मांग की, जिन्हें शारदा मेडिकल कॉलेज ने नियुक्त कर दिया है।

 

यह पढ़ें…जमात ने खड़ी कर दी भारी मुसीबत, अब लंबा खिंच सकता है कोरोना का कहर

 

इस मेडिकल कॉल सेंटर में आधुनिक सुविधाओं के साथ ही कोरोना वायरस पर जानकारी रखने वाले डॉक्टर नियुक्त होंगे।कॉल सेंटर का नोडल अधिकारी गौतमबुद्ध नगर के अपर जिलाधिकारी (वित्त और राजस्व) बलराम सिंह को बनाया गया है।

बता दें कि उत्तरप्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज गौतमबुद्धनगर (नोएडा) में मिले हैं। जिले में अब तक 50 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा चुके हैं। जिले में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, जिसके कारण जिला प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग युद्धस्तर पर काम कर रहे है।